मंडी में सुखराम परिवार लेगा बड़ा यू-टर्न: बंद कमरे में CM से मिले आश्रय, क्या दोबारा बीजेपी में जाएंगे?

Ticker

6/recent/ticker-posts

मंडी में सुखराम परिवार लेगा बड़ा यू-टर्न: बंद कमरे में CM से मिले आश्रय, क्या दोबारा बीजेपी में जाएंगे?


मंडी।
राजनीति में कब क्या हो जाए इस बात का किसी को पता नहीं रहता। इस सब के बीच हिमाचल प्रदेश की राजनीति से जुडी एक बेहद ही बड़ी अपडेट मंडी जिले से सामने आ रही है। दरअसल, यहां पर कांग्रेस का कद्दावर कुनबा माने जाने वाला सुखराम परिवार के सबसे युवा नेता आश्रय शर्मा ने आज बांध कमरे में CM जयराम ठाकुर से मुलाकात की है। 

यह भी पढ़ें: उपचुनाव में हार पर कल से BJP कोर ग्रुप करेगा मंथन: CM ने 26 को बुलाई विधायक दल की बैठक

बतौर रिपोर्ट्स, मंडी लोकसभा के उपचुनाव में मिली हार के बाद मंथन करने मंडी पहुंचे सीएम जयराम से आज शाम करीब साढ़े 7 बजे सर्किट हाउस मंडी में आश्रय शर्मा ने मुलाक़ात की। सर्किट हाउस में उपस्थित भाजपा नेता उस वक्त स्तब्ध रह गए जब आश्रय शर्मा यहां सीएम जयराम ठाकुर से मिलने पहुंचे। सीएम जयराम ठाकुर कहीं जाने वाले थे लेकिन आश्रय शर्मा के आते ही उन्हें अपने कमरे में ले गए।

यह भी पढ़ें: हिमाचल में सभी दिहाड़ीदारों, कर्मचारियों का होगा पांच लाख का दुर्घटना बीमा, नोटिफिकेशन जारी

इस दौरान कांग्रेस नेता आश्रय शर्मा और जयराम ठाकुर के बीच करीब 10 मिनट तक बंद कमरे में गुफ्तगूं हुई है। वहीं, जब आश्रय शर्मा से इस बारे में सवाल पूछे गए तो उन्होंने माना कि उन्होंने सीएम जयराम ठाकुर से मुलाकात की है, लेकिन यह सिर्फ एक शिष्टाचार भेंट थी और इस दौरान सदर क्षेत्र के विकास कार्यों को लेकर चर्चा की गई है। इससे ज्यादा उन्होंने इस विषय पर और कुछ नहीं कहा।

क्या दोबारा से बीजेपी में शामिल होंगे आश्रय 

आश्रय शर्मा की सीएम जयराम ठाकुर के साथ हुई मुलाकात के बाद अब एक बार फिर से चर्चा तेज हो गई है कि क्या आश्रय शर्मा दोबारा से भाजपा में जाने वाले हैं। बता दें कि 2017 के विधानसभा चुनावों में आश्रय शर्मा और पंडित सुखराम के कहने पर ही यह परिवार भाजपा में शामिल हुआ था। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल ब्रेकिंग: दिनदहाड़े जेल से फरार हो गया कैदी, जीत रखा था जेल कर्मियों का भरोसा

आश्रय के पिता अनिल शर्मा को सदर से भाजपा ने टिकट दिया और उन्होंने जीत हासिल करके मौजूदा सरकार में कैबिनेट मंत्री का दर्जा पाया। लेकिन 2019 के लोकसभा चुनावों में टिकट न मिलने से खफा आश्रय शर्मा और उनके दादा दोबारा से कांग्रेस में शामिल हो गए और कांग्रेस के टिकट पर यहां से चुनाव लड़ा।

इसका पता भविष्य में ही चल पाएगा

अभी हालही में हुए उपचुनाव में उन्हें पार्टी की तरफ से टिकट नहीं मिला। सदर क्षेत्र की बात करें तो यहां से भाजपा को तीन हजार से अधिक मतों की बढ़त मिली है। जबकि मंडी संसदीय क्षेत्र के तहत आने वाले दो मंत्रियों के गृहक्षेत्रों से भाजपा को लीड़ नहीं मिली है। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल वीडियो: बन्दर को बचाने के चक्कर में नीचे गिरी कार, 4 साल का बच्चा भी था सवार

चुनावों के दौरान अनिल शर्मा को भी सीएम जयराम ठाकुर ने पार्टी के लिए काम करने के लिए कहा था और उनके मान सम्मान को बरकरार रखने की बात कही थी। अब इन सब बातों के आधार पर आश्रय शर्मा का सीएम जयराम ठाकुर से मिलना, कई सवाल खड़े कर रहा है।

Post a Comment

0 Comments