हिमाचल में खो-खो खेलने आए खिलाड़‍ियों व कोच ने कहा- आत्महत्या कर लेंगे, जानें ऐसा क्या हुआ?

Ticker

6/recent/ticker-posts

adv

हिमाचल में खो-खो खेलने आए खिलाड़‍ियों व कोच ने कहा- आत्महत्या कर लेंगे, जानें ऐसा क्या हुआ?


ऊनाः
हिमाचल प्रदेश के ऊना जिले में आज यानी शनिवार से अंडर-14 राष्ट्रस्तरीय खो-खो प्रतियोगिता का आयोजन किया गया है। इस दौरान प्रतियोगिता में भाग लेने पहुंची उत्तर प्रदेश की टीम को जब प्रतिस्पर्धा में हिस्सा लेने से इंकार किया गया तो उन्होंने सबके सामने आत्महत्या करने की चेतावनी दे डाली।  

आयोजकों ने बताया पहले से ही भाग ले रही UP की एक और टीम 

मिली जानकारी के मुताबिक उत्तर प्रदेश की यह टीम अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी प्रीति गुप्ता के नेतृत्व में यहां अंडर-14 राष्ट्रस्तरीय खो-खो प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए पहुंची थी। परंतु उन्हें अधिकारियों ने भाग लेने से इंकार कर दिया। जब इस संबंध में कोच प्रीति ने आयोजकों से पूछा तो उन्होंने पहले ही उत्तर प्रदेश की एक टीम के भाग लेने की बात कही। 

यह भी पढ़ें: 50 फीसद बजट कर्मचारियों पर ही खर्च करेगी जयराम सरकार: कितने सहमत आप?

इसके बाद कोच प्रीति गुप्ता ने सबके सामने बच्चों सहित आत्महत्या करने की बात कही और मंच पर खो-खो फेडरेशन के महासचिव एमएस त्यागी पर अभद्रता करने के आरोप भी लगाए। इस संबंध में जानकारी देते हुए खो खो एसोसिएशन उत्तर प्रदेश के मैनेजर पंकज कुमार द्विवेदी और कोच प्रीति गुप्ता ने बताया कि उनके साथ गोरखपुर, बलिया, बस्ती, सहित अन्य अगल अलग जिलों के करीब 22 बच्चे यहां इस प्रतियोगिता में भाग लेने आए हैं। 

फीस जमा भी करवाई पर नहीं मिली एंट्री-

इसके साथ ही उन्होंने बताया कि इस प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए उन्होंने 25 हजार रुपए की फीस इंडिया खो-खो एसोसिएशन के पास जमा भी की है। इसके बावजूद उन्हें इस प्रतियोगिता में भाग लेने से इंकार कर दिया गया। बच्चों का रो रोकर बुरा हाल है वह इसमें भाग लेने की मांग कर रहे हैं। 

जानें क्या बोले भारतीय खो-खो महासंघ के महासचिव-

वहीं, इस मामले के संबंध में भारतीय खो-खो महासंघ के महासचिव एमएच त्यागी का कहना है कि उत्तर प्रदेश से पहुंची टीम को पूर्व में ही अमान्य करार दिया गया है। इसके बावजूद भी इस प्रतियोगिता के पूर्व वहां एक सलेक्शन प्रक्रिया रखी गई थी। जिसमें उनके पदाधिकारियों को चयन के लिए बुलाया गया था परंतु वे वहां नहीं पहुंचे। 

यह भी पढ़ें: बिग ब्रेकिंग: हिमाचली NIA अधिकारी कर रहा था आतंकियों की मदद! घर की तलाशी- पूछताछ शुरू

उन्होंने कहा कि अगर वह इससे पूर्व ही सभी दस्तावेजों को प्रस्तुत करते तो वह इन्हें राष्ट्रीय खो-खो संघ के समक्ष उन्हें लाते। अब कोई भी यहां आकर भाग लेने को कहेगा तो उन्हें भाग कैसे लेने दिया जा सकता है इसके साथ ही एमएस त्यागी ने कहा कि अगर वह आत्महत्या की चेतावनी दे रहे हैं तो वह खुद गलत कर रहे हैं। उन्हें कानूनन इस प्रतियोगिता में भाग लेने का अधिकार नहीं है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ