काशी से सभी CM गए अयोध्या: विधानसभा के शोर ने जयराम को बुलाया वापस, जानें क्या बोले

Ticker

6/recent/ticker-posts

adv

काशी से सभी CM गए अयोध्या: विधानसभा के शोर ने जयराम को बुलाया वापस, जानें क्या बोले


शिमला।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में बीजेपी शासित 12 राज्यों के सीएम की बैठक का आयोजन पीएम के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में किया गया। इस बैठक के समापन के बाद जहां सभी मुख्यमंत्री काशी से अयोध्या भ्रमण के लिए निकल पड़े हैं। वहीं, हिमाचल प्रदेश विधानसभा के शीतकालीन सत्र में मचे हुए हंगामे के बीच सूबे के सीएम जयराम ठाकुर वापस धर्मशाला लौट आए हैं। 

पर्यटन विभाग की सम्पत्तियों को बेचने के आरोप पर ये बोले..

शीतकालीन सत्र में भाग लेने के लिए वे हेलिकॉप्टर के माध्यम से सीधे दिल्ली से धर्मशाला पहुंचे। यहां पर पत्रकारों से बीतचीत के दौरान सीएम ने विपक्ष द्वारा पर्यटन विभाग की सम्पत्तियों को बेचने के संबंध में लगाए गए आरोपों को निराधार बताते हुए कहा कि इन परिसंपत्तियों का मालिक हिमाचल सरकार ही रहेगी। जब हमें लगेगा कि कुछ गलत हो रहा है नियम तोड़े जा रहे हैं तो इस सारे कांट्रेक्ट तोड़ा जा सकता है।

यह भी पढ़ें: हिमाचलः मजदूर पिता की बेटी स्कूल को निकली पर लौटी नहीं, पड़ोस का लड़का भी..

बकौल सीएम जयराम, हिमाचल प्रदेश सरकार की शर्तों पर ही काम होगा। वो विपक्ष से पूछना चाहते है वाइल्ड फ्लावर हॉल के मामले में क्या वजह थी सरकार की हजारों करोड़ की संपत्ति एक निजी कंपनी को दे दी अब इससे क्या हासिल हो रहा है। इस का जवाब उनके पास नहीं है। इसलिए बेचने वाले वो है उनका बस चलता तो वो बहुत कुछ बेच देते पर उनके पास समय नहीं रहा।

काशी दौरे और बैठक के बारे में कही ये बात 

इसके अलावा पीएम नरेंद्र मोड़ के साथ वाराणसी में हुई बैठक के बारे में सीएम जयराम ने बताया कि काशी में बहुत सारी विकासात्मक गतिविधियां हुई हैं। उसी के चलते काशी अब पर्यटन का विशेष केंद्र बना हुआ है। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल पुलिस ने गश्त के दौरान 3 युवकों से पकड़ी नशे की बड़ी खेप, शक के आधार पर रोका था

उन्होंने कहा कि पिछले काफ़ी समय से मुखमंत्री परिषद क बैठक नहीं हुई थी, इस बैठक में हमें प्रदेश में चल रहे कार्यों को बताने का मौक़ा मिला वहीं पीएम मोदी की तरफ़ से भी आगे का क्या रोड्मैप रहेगा, जिससे एक मज़बूत भारत को लेकर आगे बढ़ना है, इस पर चर्चा हुई है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ