कैबिनेट में फेरबदल पर CM का बड़ा बयान: कुछ मंत्रियों को और मेहतन की जरूरत

Ticker

6/recent/ticker-posts

adv

कैबिनेट में फेरबदल पर CM का बड़ा बयान: कुछ मंत्रियों को और मेहतन की जरूरत

शिमला: हिमाचल प्रदेश में उपचुनाव संपन्न होने के बाद से ही मंत्रीमंडल में फेरबदल के कयास लग रहे हैं। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने भी कहा थी कि मंत्रीमंडल में फेरबदल आलाकमान के दिशानिर्देश के अनुसार होगा।

मंत्रियों को करना होगा अधिक मेहनत:

वहीं, अब मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने अपने मंत्रीमंडल को लेकर कहा है कि कुछ मंत्रियों को और अधिक काम करने की जरूरत है। साथ ही उन्होंने कहा कि वह अपने मंत्रीमंडल से संतुष्ट हैं।

यह भी पढ़ें: हिमाचल: सरकारी कर्मी का हादसे में निधन, अस्पताल पर आरोप; AIIMS के पास धरना

मुख्यमंत्री होटल होली-डे होम में प्रेस वार्ता को संबोधित कर रहे थे। मंत्रिमंडल में फेरबदल के सवाल पर सीएम ने कहा कि जब वो दौर आएगा, तो वो भी बता देंगे। मुख्यमंत्री ने जोड़ देते हुए कहा कि यह चुनावी साल है और इसमें हम सबको और अधिक मेहनत करने की जरूरत है।  

अफसरों से प्यार से लिया काम:

वहीं, अफसरसाही को लेकर किए गए प्रश्न का जवाब देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि हमने सभी अफसरों से प्यार से काम लेने की कोशिश की है। यदि कोई इस भाषा को नहीं समझता है तो उसको आने वाले वक्त में जरूर पश्चाताप होगा।

यह भी पढ़ें: हिमाचल: लावारिस मिली बच्ची को गोद लेने के लिए लोग आतुर, इस नंबर पर कर रहे संपर्क

साथ ही उन्होंने कहा कि जो बड़े सख्त बनते थे या खुद की पकड़ के दावे करते थे, वो भी सरकार रिपीट नहीं करवा पाए। उपचुनाव के हार को लेकर मुख्यमंत्री ने कहा कि ये चुनाव भी श्रद्धांजलि और सहानुभूति के ऊपर हुआ है। हिमाचल के लोग भावुक हैं, लेकिन ये सहानुभूति हमेशा नहीं रहेगी।

चार साल रहा बेमिशाल:

कई बार समय से पहले मिली हार भी जरूरी होती है। यही हार अब जीत की वजह बनेगी। जयराम ठाकुर ने कहा कि उनकी सरकार ने चार साल के कार्यकाल में सोशल सेक्टर पर ज्यादा फोकस किया है।

सामाजिक सुरक्षा पेंशन से लेकर हिमकेयर के फ्री इलाज, सहारा योजना, शगुन योजना से हर गरीब तक मदद पहुंचाने का काम किया है। गृहणी सुविधा योजना के तहत भी हर घर की रसोई को धुआंमुक्त किया है। उनकी सरकार के दौरान कोरोना की परिस्थितियां असामान्य थीं। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल में कल से बारिश व बर्फबारी: ये चार दिन होंगे मुश्किल, जानें पूरी डीटेल

ऐसा इससे पहले किसी मुख्यमंत्री को नहीं झेलना पड़ा। इसके बावजूद सरकार ने विकास की रफ्तार को नहीं थमने दिया। अब सरकार के आखिरी साल का एक एक दिन राज्य की सेवा में समर्पण से बिताएंगे।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ