डीएनए से होगी विवेक कुमार के पार्थिव शरीर की पहचान: पत्नी बेसुध हुई, पिता सन्न

Ticker

6/recent/ticker-posts

adv

डीएनए से होगी विवेक कुमार के पार्थिव शरीर की पहचान: पत्नी बेसुध हुई, पिता सन्न


कांगड़ाः
हिमाचल प्रदेश के कांगडा जिले स्थित जयसिंहपुर के तहत पड़ते अप्पर ठेहडू कोसरी गांव से ताल्लुक रखने वाले वीर सूपत पैरा कमांडो जवान विवेक कुमार बीते कल तमिलनाडू में पेश आए हादसे में शहीद हो गए। इस हादशे में सीडीएस बिपिन रावत सहित कुल 13 लोगों की मौत हुई है। यह हादसा इतना भयानक था कि सभी के शव बुरी तरह से जल गए हैं और उनकी शिनाख्त कर पाना मुमकिन नहीं है। 

यह भी पढ़ें: हिमाचलः दाह संस्कार से लौट रहे लोगों का वाहन नीचे लुढका, एक की गई जान; 15 चोटिल

शवों की शिनाख्त के लिए सेना के जवान शहीद के घर पहुंचे हुए हैं ताकि परिजनों के डीएनए टेस्ट के सैंपल ले सकें। सैंपल लेकर ये जवान वापस दिल्ली लौटेंगे, जहां लांस नायक विवेक कुमार के साथ डीएनए मैच किए जाएंगे और इसके बाद ही मौत की आधिकारिक पुष्टि होगी। 

मेरा पुत्तर मुझे छोड़कर कहां चला गया

वहीं, डीएनए मैच होने के बाद ही शहीद के पार्थिव देह को अंतिम संस्कार के लिए परिजनों को सौंपा जाएगा। विवेक की मौत के बाद हर कोई सतब्ध है,पूरे इलाके में मातम पसर गया है। यह दुखद खबर सुनकर सबकि आंखें नम हैं। बेटे की मौत ने मानों सबको तोड़ कर रख दिया है। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल पुलिस ने एक कागज़ के टुकड़े से सुलझाई हत्या की गुत्थी: धर्म-परिवर्तन का गंदा खेल उजागर

मृतक जवान अपने पीछे पत्नी, दो माह के बेटे सहित भरा पूरा परिवार छोड़ गया है। मां और पत्नी का रो-रो कर बुरा हाला है। पत्नी प्रियंका तो बेसुध हो गई है वहीं मां भी रोती बिलखती एक ही बात कह रही है कि मेरा पुत्तर मुझे छोड़कर कहां चला गया। पिता भी घर के आंगन में कुर्सी लगाकर चुपचाप बैठे हुए हैं।  

यह भी पढ़ें: हिमाचल के लॉन्स नायक विवेक कुमार भी हेलीकॉप्टर क्रैश में शहीद, 2 माह पहले जन्मा था बेटा

बताया जा रहा है कि विवेक ने अपने पिता से जनवरी में घर लौटने का वादा किया था परंतु इससे पहले ही वह इस दुनिया को अलविदा कह कर चले गए।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ