हिमाचल के पूर्व सैनिक भाई: पाक-चीन से लड़ी जंग अब सड़क के लिए खा रहे ठोकर, CM से मिले

Ticker

6/recent/ticker-posts

adv

हिमाचल के पूर्व सैनिक भाई: पाक-चीन से लड़ी जंग अब सड़क के लिए खा रहे ठोकर, CM से मिले


कांगड़ाः
आजादी के इतने सालों बाद भी प्रदेश में ऐसे क्षेत्र हैं जहां सड़कें तो दूर की बता बल्कि आने जाने के लिए नार्मल रास्ता तक नहीं है। इस इलाके में यदि लोग बीमार हो जाए तो उन्हें कंधों पर बिठा कर ले जाना पड़ता है। हम बात कर रहे हैं कागंड़ा जिले स्थित बड़ोल क्षेत्र की। जहां आज तक सड़क नहीं पहुंच पाई है। वहीं, अब इसके निर्माण के लिए भारतीय सेना के दो पूर्व सैनिकों को जद्दोजहद करनी पड़ रही है। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल में बर्ड फ्लू का अलर्ट: पक्षियों व मुर्गे-मुर्गियों के सैंपल जांच को भेजे- जानें बचाव का तरीका

इस संबंध में दोनों भाईयों ने सीएम जयराम ठाकुर को ज्ञापन तक सौंपा है। इसके साथ ही उन्होंने आग्रह किया है कि रास्ते का निर्माण जल्द से जल्द किया जाए। बावजूद इसके अभी तक कोई कार्रवाई होती नहीं दिख रही है। कई सालों से दर-दर की ठोकरे खाने के बावजूद भी समस्या का कोई समाधान नहीं हो पाया।  

1965 और 1971 के युद्ध में चीन और पाक से लिया था लोहा 

वहीं, वर्तमान में महाल उपरली बडोल क्षेत्र के लोग आने जाने के लिए राजस्व विभाग की कूहल के समीप बनी पगडंडी का प्रयोग करते हैं, लेकिन रास्ते में अंधेरे के कारण बच्चों व बुजुर्गों का कूहल में गिरने का डर बना रहता है। इतना ही नहीं कई बार तो लोग इस कूहल में गिर भी जाते हैं।

यह भी पढ़ें: कांस्टेबल वेतनमान मामला: रिपोर्ट सौंपने वाली कमेटी के सदस्यों में ठनी, जानें क्या है वजह

मिली जानकारी के मुताबिक महाल उपरली बडोल क्षेत्र के रहने वाले किशन चंद व सूरमा राम पुत्र स्व मलू राम दोनों भाई भारतीय सेना में अपनी सेवाएं दे चुके हैं। अपनी सेवा के दौरान दोनों ने सन 1965 में हुए भारत-पाक व 1971 में भारत-चीन के साथ हुए युद्ध लड़े हैं।  

पकिस्तान के बम विस्फोट से तबाह हो गया था घर 

इतना ही नहीं 1965 में जब पाकिस्तान की वायुसेना ने धर्मशाला पर हमला किया तो इस दौरान हुए बम फिस्फोट में उनका घर तबाह हो गया था। इस दौरान उनके पिता की मृत्यु हो गई थी। उस समय किशन चंद सियालकोट सेक्टर में बार्डर पर लड़ाई लड़ रहे थे।

यह भी पढ़ें: हिमाचलः HRTC बस अनियंत्रित होकर सड़क से लुढ़कीः कई यात्री थे सवार

परंतु सेना में अपनी सेवाएं देने के बावजूद भी उनकी कोई सुनवाई नही हो रही है। दोनों भाईयों ने मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर से पुनः आग्रह करते हुए रास्ते के निर्माण सहित सीवरेज, पानी व स्ट्रीट लाइट की व्यवस्था करवाने को कहा है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ