हिमाचल: नए वेतन आयोग के एरियर में उलझी जयराम सरकार, 5 किस्तें बनाकर भी देना मुश्किल

Ticker

6/recent/ticker-posts

adv

हिमाचल: नए वेतन आयोग के एरियर में उलझी जयराम सरकार, 5 किस्तें बनाकर भी देना मुश्किल


शिमला।
हिमाचल प्रदेश की जयराम सरकार छठे वेतन आयोग में देय एरियर के मसले पर बुरी तरह से उलझी हुई नजर आ रही है. इस बारे में विभागीय अधिकारियों का कहना है कि अगर इस एरियर के भुगतान के लिए पांच किस्तें भी बनाई जाएं तो भी इसे आसानी से नहीं दिया जा सकेगा। 

जनवरी 2022 से देना शुरू किया जाएगा!

गौरतलब है कि प्रदेश सरकार के पास कर्ज लेने के अलावा कोई चारा नहीं होगा और इसे भी एक सीमा तक ही लिया जा सकेगा। राज्य वित्त विभाग के एक आकलन के अनुसार एरियर का पूरा भुगतान करने के लिए सरकार को 12 से 13 हजार करोड़ रुपये की जरूरत होगी। 

यह भी पढ़ें: हिमाचलः पिता और भाई घर में ही थे- दुपट्टे से झूल गया 24 वर्षीय, करता था पार्ट टाइम जॉब

बता दें कि जयराम सरकार छठे वेतन आयोग के तहत वेतनमान का लाभ एक जनवरी 2016 से देने का एलान कर चुकी है। इसे जनवरी 2022 से देना शुरू किया जाएगा, यानी जनवरी के फरवरी के वेतन में इसे दे दिया जाएगा। इस बारे में मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने हाल ही में हुई संयुक्त सलाहकार समिति (जेसीसी) की बैठक में घोषणा की थी। 

सरकार ने अबतक यह नहीं किया है स्पष्ट 

अब 20 दिसंबर को होने जा रही राज्य मंत्रिमंडल की बैठक में इसका एजेंडा जाएगा। इसी में नए वेतनमान और इसके एरियर के बारे में स्थिति साफ कर दी जाएगी। जेसीसी की बैठक में भी सरकार ने इसे स्पष्ट नहीं किया है कि कर्मचारियों और पेंशनरों को वर्ष 2016 से लेकर अब तक का एरियर कब और किस तरह से दिया जाना है। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल का ड्राइवर पार्किंग में खड़े ट्रक में मृत मिला: क्लीनर ने सुबह देखा- जांच शुरू

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर पहले इसे स्पष्ट कर चुके हैं कि नए वेतनमान को जारी करने का करीब छह हजार करोड़ रुपये का वित्तीय बोझ पड़ेगा। मगर इसके एरियर के बारे में अभी तक स्थिति साफ नहीं की है। वित्त विभाग के एक अधिकारी का कहना है कि सरकार तमाम विषयों पर मंत्रणा कर रही है। 

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ