हिमाचल के लॉन्स नायक विवेक कुमार भी हेलीकॉप्टर क्रैश में शहीद, 2 माह पहले जन्मा था बेटा

Ticker

6/recent/ticker-posts

adv

हिमाचल के लॉन्स नायक विवेक कुमार भी हेलीकॉप्टर क्रैश में शहीद, 2 माह पहले जन्मा था बेटा


कांगड़ा।
तमिलनाडु में दुर्घटनाग्रस्त सेना के हेलिकॉप्टर में सीडीएस जनरल बिपिन रावत के साथ सवार हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा जिले के जयसिंहपुर के गांव अपर ठेहडू, डाकघर कोसरी के लॉन्स नायक विवेक कुमार (29) का भी निधन हो गया है। 

दो माह के बेटे को छोड़ गया पीछे 

30 वर्षीय युवा अभी हाल ही में छुट्टी काट कर गया था। उनकी शादी 2020 में हुई थी और सितंबर में घर में बेटे का जन्म हुआ था। विवेक घर मे सबसे बड़े थे। उनके पिता रमेश चंद दिहाड़ी का काम करते हैं जबकि माता आशा देवी गृहिणी हैं। 

यह भी पढ़ें: दुखद: नहीं रहे CDS बिपिन रावत, पत्नी समेत 13 लोगों का दुखद निधन- रक्षा मंत्री ने जताया दुःख

विवेक का एक छोटा भाई है, जो बैजनाथ के चौबीन में बेकरी में काम करता है। एक बहन की शादी हो चुकी है। 2012 में जैक राइफल में भर्ती होने के पश्चात देश सेवा के जज्बे के चलते उन्होंने पैरा कमांडो में अपनी बदली करवा ली थी। 

जनवरी में घर आने की बात कह लौटे थे 

पंचायत के प्रधान विनोद कुमार के अनुसार पत्नी ने बताया है कि विवेक सीडीएस के साथ थे। तमिलनाडु जाने से पहले विवेक ने उन्हें यह बात बताई थी। बताया जा रहा है कि विवेक की पत्नी, पिता रमेश चंद, माता आशा देवी इस सूचना के बाद बेसुध हैं। 

यह भी पढ़ें: विराट की कप्तानी का दौर समाप्त? रोहित T-20 के बाद बने ODI के भी कप्तान

विवेक के ताया सीताराम ने बताया कि उन्हें भी टीवी के माध्यम से ही विवेक के शहीद होने की सूचना मिली है। विवेक अक्टूबर में घर छुट्टी काटने आए थे। स्वजन से जनवरी में फिर आने की बात कहकर घर से गए थे।

काफी मेहनती व मिलनसार थे विवेककुमार 

विवेक कुमार के माता-पिता दोनों मेहनत-मजदूरी करते हैं। गरीब परिवार का यह लड़का काफी मेहनती व मिलनसार था। क्षेत्र में खबर आग की तरह फैल गई व सुनकर हर कोई स्तब्ध है।

यह भी पढ़ें: सोनिया गांधी ने थपथपाई कुलदीप राठौर की पीठ, बोलीं-जारी रहे जीत का सिलसिला

बता दें कि तमिलनाडु के नीलगिरी जिले के कुन्नूर में ये हादसा हुआ है। यहां पर सेना का एक हेलीकॉप्टर क्रैश हो गया था। हेलीकॉप्टर में चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत अपने स्टाफ और परिवार के सदस्यों के साथ सवार थे। इसके अलावा सेना के कुछ उच्च अधिकारी भी हेलीकॉप्टर में सवार थे।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ