हिमाचल: दुकानदार ने निगल लिया था जहर, अब एक कागज के टुकड़े ने बढ़ाया सस्पेंस- जांच को भेजा

Ticker

6/recent/ticker-posts

adv

हिमाचल: दुकानदार ने निगल लिया था जहर, अब एक कागज के टुकड़े ने बढ़ाया सस्पेंस- जांच को भेजा

सिरमौरः हिमाचल प्रदेश में बीते 3 दिसंबर को जहर खाकर आत्महत्या करने वाले दुकानदार मामले में पुलिस के हाथ एक अहम सुराग हाथ लगा है। बता दें कि बीते कल यानी गुरुवार को दुकान की तलाशी के दौरान पुलिस के हाथ कागज के टुकड़े लगे हैं। 

पढ़ने में हुई समस्या:

पुलिस द्वारा यह आशंका जताई जा रही है कि ये सुसाइड नोट हो सकता है। परंतु बरामद कागज के टुकड़ों की हालत बेहद खराब होने के चलते उन्हें फॉरेंसिक जांच के लिए भेजा गया है। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल में मानवता को शर्मसार: अपने कुत्ते को घुमाने निकला और लात मार ले ली 'पिल्ले' की जान

पुलिस से प्राप्त जानकारी के मुताबिक आत्महत्या के बाद से ही दुकान को सील कर दिया गया था और मृतक दुकानदार के घरवालों के क्षेत्र से बाहर होने के चलते दुकान की तलाशी नहीं ली जा सकी थी। वहीं, अब टीम को दुकान से कागज के टुकड़े बरामद हुए हैं।

एफएसएल रिपोर्ट आने का इंतजार;

इस मामले की पुष्टि करते हुए डीएसपी शक्ति सिंह ने बताया कि दुकान से फटे हुए कागज के टुकड़े मिल हैं, जो पढ़ने के लायक नहीं है। उन्होंने बताया कि कागज के सुसाइड नोट होने का अंदेशा है और इसी के चलते उन्हें फॉरेंसिक लैब भेजा जा रहा है।

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि एफएसएल की रिपोर्ट आने के बाद ही पुलिस द्वारा आगामी कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। बता दें कि बीते 3 दिसंबर को संगड़ाह के मुख्य बाजार में काम करने वाले जीवन चौहान ने किसी जहरीले पदार्थ का सेवन कर लिया था। 

ये था पूरा मामला:

इस दौरान उन्हें उपचार हेतु मेडिकल कॉलेज नाहन पहुंचाया गया परंतु हालत गंभीर होने के चलते उन्हें पीजीआई रेफर कर दिया गया। जहां उपचार के दौरान उनकी मौत हो गई। जीवन चौहान की इलाके में अपनी ही पहचान थी और इसी के चलते वे करीब दो बार व्यापार मंडल के अध्यक्ष भी बने। 

यह भी पढ़ें: हिमाचलः कार बना हवाई जहाज, सही जा रहे बाइक को ठोंका; छीन ली युवक की सांसे

जब उनकी मौत की खबर सामने आई तो स्थानीय व्यापारियों ने शोक व्यक्त करते हुए आधा दिन के लिए अपनी दुकानें भी बंद की थी। इसके साथ ही उन्होंने पुलिस टीम से मामले की निष्पक्ष जांच करने की अपील भी की है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ