मां ज्वालामुखी के प्रसादघर में भड़की ज्वाला: रसोइए का बचना चमत्कार से कम नहीं

Ticker

6/recent/ticker-posts

adv

मां ज्वालामुखी के प्रसादघर में भड़की ज्वाला: रसोइए का बचना चमत्कार से कम नहीं

कांगड़ा: हिमाचल प्रदेश के प्रसिद्ध शक्तिपीठ ज्वालामुखी माता मंदिर से बड़ी खबर सामने आई है। माता का प्रसाद बनते समय रसाई में आग लग गई लेकिन माता का प्रताप ऐसा कि तैयार हो रहे महाभोग प्रसाद तक आग की लपटें पहुंची भी नहीं। 

बन रहा था माता का प्रसाद:

मिली जानकारी के अनुसार मंदिर परिसर में नए रसोई घर का निर्माण किया गया है। विगत छह माह से वहीं प्रसाद बन रहा था। वीरवार दोपहर रसोई घर में अचानक आग लग गई। इस दौरान वहां माता के दरबार के लिए भोग तैयार किया जा रहा था।

यह भी पढ़ें: हिमाचल: गरीबी पर भारी पड़ी ठंडी, बर्फबारी से पहले की रात ने छीन ली बेघर की सांसे

अचानक चिमनी ने आग पकड़ ली और पूरा रसोई घर धुएं से भर गया, जिसमें रसोइया बाल-बाल बच गया। मंदिर की रसोई में धुएं का घना गुब्बार देखकर मंदिर के अन्य कर्मचारी मौके पर पहुंचे और मन्दिर में लगे पानी के सिस्टम से आग पर काबू पाया। मां ज्वाला को लगने वाले भोग प्रसाद को नुकसान नहीं हुआ और दोपहर आरती के दौरान परम्परागत रूप से भोग अर्पित किया गया।

मंदिर अधिकारी का बयान:

बता दें कि पहले मंदिर से कुछ दूर पर स्तिथ पुराने रसोई घर में ही भोग प्रसाद तैयार किया जाता था। नया रसोई बंनने के बाद से यहां प्रसाद बनना बंद हो गया। आग के कारणों का पता नहीं चल पाया है।

यह भी पढ़ें: हिमाचल में विदेश से आई थी नशे की बड़ी खेप; SP गुरदेव की टीम के आगे फेल हुई तस्करी

मुख्य मंदिर के नजदीक बने नए रसोई घर में इस हादसे ने मन्दिर प्रशासन को सचेत होने के संकेत अवश्य दे दिए हैं। तहसीलदार एवं मंदिर अधिकारी दीनानाथ यादव का कहना है कि चिमनी में लगे तेल के कारण उक्त हादसा हुआ लेकिन इस पर तुरंत प्रभाव से काबू पा लिया गया, जिसके चलते किसी प्रकार का कोई नुकसान नहीं हुआ है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ