हिमाचल का 19 करोड़ी घोटाला: महिला IAS समेत 16 के खिलाफ FIR, कई लोगों की मुश्किल बढ़ेगी

Ticker

6/recent/ticker-posts

adv

हिमाचल का 19 करोड़ी घोटाला: महिला IAS समेत 16 के खिलाफ FIR, कई लोगों की मुश्किल बढ़ेगी

प्रतीकात्मक तस्वीर
ऊनाः हिमाचल प्रदेश में बैंक संबंधित एक और घोटाला सामने आया है। मामला ऊना जिले स्थित कांगड़ा केंद्रीय सहकारी बैंक की शाखा का है। 19 करोड़ 50 लाख रुपए के घोटाले के संबंध में स्टेट विजिलेंस एंड एंटी करप्शन ब्यूरो ने ऊना में एफआइआर दर्ज की है। 

डिफालटर कंपनी को दिया था लोन:

यह एफआईआर एक आईएएस अधिकारी सहित कुल 16 लोगों के खिलाफ दर्ज हुई है। इसमें चार कंपनियां भी शामिल हैं। मिली जानकारी के मुताबिक पिछले कांग्रेस सरकार के समय काल में ऊना जिले स्थित केसीसी बैंक द्वारा सब नियमों को ताक पर रखते हुए पंजाब की एक कंपनी को लोन दिया गया था। 

यह भी पढ़ें: HRTC बस की टक्कर से बीच सड़क पर पलट गई मारुती 800: अस्पताल पहुंचे वाहन सवार

जबकि पंजाब में उस कंपनी को डिफालटर करार दिया गया था। बावजूद इसके कंपनी को लोन दे दिया गया। इस मामले के संबंध में एसपी विजिलेंस कार्यालय धर्मशाला ने फैक्ट फाइंडिंग रिपोर्ट तैयार की थी, जिसके आधार पर कुछ दिन पहले ही सरकार द्वारा विजिलेंस को केस दर्ज करने की औपचारिक स्वीकृति आई थी। 

इस पर कार्रवाई करते हुए एडीजीपी विजिलेंस ने स्वीकृति एसपी नार्थ रेंज को भेजी थी। उन्होंने इस संबंध में ऊना विजिलेंस को कार्रवाई करने के निर्देश दिए। वहीं, मामला ऊना जिले से जुड़ा है तो इसके संबंधित केस भी ऊना जिले में ही फाइल हुआ है।

सचिवालय में फंसी थी फाइल:

इस संबंध में मामला दर्ज करने की मंजूरी से जुड़ी फाइल सचिवालय में बड़े बाबुओं के पास औपचारिकताओं के फेर में फंसी थी। काफी समय के बाद सचिवालय से फाइल राज्य विजिलेंस एंड एंटी करप्शन ब्यूरो मुख्यालय आई।

यह भी पढ़ें: हिमाचल कैबिनेटः करुणामूलक-नए वेतनमान, पेंशन और नौकरियों समेत ये मसले होंगे अहम, जानें

अब मामला दर्ज जो जाने से उक्त आइएएस अधिकारी की भी मुश्किलें बढऩी तय है। हालांकि, यह अधिकारी अपना पक्ष रखने से साफ इन्कार कर रही हैं। अब आरोपितों को विजिलेंस पूछताछ के लिए तलब करेगी। आरोपितों को नोटिस भेजे जाएंगे।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ