हिमाचल में गजब हॉस्पिटैलिटी: समस्या आज है अल्ट्रासाउंड 'मई' में होगा, दी 5 माह बाद की डेट

Ticker

6/recent/ticker-posts

adv

हिमाचल में गजब हॉस्पिटैलिटी: समस्या आज है अल्ट्रासाउंड 'मई' में होगा, दी 5 माह बाद की डेट


मंडीः
हिमाचल प्रदेश में सरकारी अस्पतालों में आम जन मानस यह उम्मीद लेकर इलाज करवाने पहुंचते है कि यहां उनकी समस्याओं का निवारण किया जाएगा। परंतु इसके विपरीत यहां लोगों को अस्पताल में हो रही अव्यवस्था के कारण काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल- बड़ा खुलासा: शिक्षा विभाग के क्लर्क की हुई थी हत्या, दो अरेस्ट- नाले से मिली थी देह

ताजा मामला प्रदेश के मंडी जिले स्थित लाल बहादुर शास्त्री नेरचौक मेडिकल कॉलेज व अस्पताल का है। जहां बीते कल उपचार करवाने पहुंचे मरीज अनिल कुमार व प्रमीला को डॉक्टर ने अल्ट्रासाउंड करवाने की सलाह दी। 

इस पर जब वे अल्ट्रासाउंट करवाने पहुंचे तो वहां मौजूद चिकित्सकों ने उनकी पर्ची पर पांच महीने बाद की तारीख यानी 23 मई 2022  लिखकर वापस लौटा दिया। 

पांच महीने बाद की दी तारीख-

हैरत की बात तो ये है मरीज को दिक्कत आज हो रही है तो वो पांच महीने बाद अल्ट्रासाउंड करवाकर क्या करेगा। इस वजह से कई मरीजों को प्राइवेज संस्थानों में जाकर अल्ट्रासाउंड करवाना पड़ रहा है। 


यह भी पढ़ें: हिमाचल: नए वेतन आयोग के एरियर में उलझी जयराम सरकार, 5 किस्तें बनाकर भी देना मुश्किल

इसके लिए उन्हें 1500 रुपए तक का भुगतान करना पड़ रहा है। परंतु इन में से कुछ मरीज ऐसे भी हैं जो इतना महंगा टेस्ट करवाने में असमर्थ हैं, लेकिन करें भी तो क्या करें अस्पतालों ने उनके समक्ष कोई रास्ता नहीं छोड़ा है। 

रेडियोलॉजिस्ट की कमी के कारण आ रही है समस्या

इस संबंध में जानकारी देते हुए नेरचौक मेडिकल कालेज के एसएमएस डा. पन्नालाल ने बताया कि अस्पताल में रेडियोलाजिस्ट की कमी चल रही है। वर्तमान में रेडियोलाजी विभाग सिर्फ एक सीनियर रेजिडेंट डॉक्टर और एक असिस्टेंट प्रोफेसर के सहारे चल रहा है। 

यह भी पढ़ें: हिमाचलः पिता और भाई घर में ही थे- दुपट्टे से झूल गया 24 वर्षीय, करता था पार्ट टाइम जॉब

उन्होंने बताया कि सरकार को इस संदर्भ में कई बार लिखा भी गया है। परंतु कोई कार्रवाई नहीं हुई। उनका कहना है कि यदि अस्पताल में रिक्त पद भर दिए जाते हैं तो समस्या का भी समाधान हो जाएगा।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ