शहीद के पिता दिल्ली रवाना: दो दिन से नहीं जला चूल्हा- कॉम्बैट फ्री फॉल में एक्सपर्ट थे विवेक

Ticker

6/recent/ticker-posts

adv

शहीद के पिता दिल्ली रवाना: दो दिन से नहीं जला चूल्हा- कॉम्बैट फ्री फॉल में एक्सपर्ट थे विवेक


कांगड़ाः
हिमाचल प्रदेश स्थित कांगड़ा जिले के तहत पड़ते गांव ठेहडू कोसरी के नौजवान पैरा कंमाडो विवेक कुमार की हैलिकॉप्टर क्रैश में मौत होने के कारण इलाके में मातम पसरा हुआ है। शहीद के घर में दो दिन से चूल्हा तक नहीं जला है, जबकि मां और पत्नी का रो-रो कर बुरा हाल है। इस सब के बीच सामने आ रही ताजा अपडेट की मानें तो शहीद के परिजनों को शिनाख्त के लिए आज दिल्ली बुलाया गया है। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल: घर लौट रहीं दो महिलाओं को रौंदकर भाग निकला कार चालक

दिल्ली रवाना हुए पिता व भाई-

जानकारियों की मानें तो आज 11 बजे के करीब शहीद के पिता रमेश चंद व भतीजा अजीत दिल्ली के लिए रवाना हुए हैं। पहले अटकलें लगाई जा रही थी कि आज शहीद की पार्थिव देह उनके पैतृक गांव पहुंच जाएगी, परंतु अब पहचान होने के बाद ही शव को वहां से घर भेजा जाएगा। वहीं, आज सुबह एसडीएम पवन शर्मा ने शहीद के घर जाकर उनकी पत्नी प्रियंका को पांच लाख रुपए का चेक सौंपा। 

30 हजार फीट से कूदने में थे माहिर

वर्तमान में उनकी यूनिट नाहन में पोस्टेड है , लेकिन पैरा कमांडो होने के चलते करीब ढे़ड साल पहले ही उन्हें सीडीएस बिपिन रावत के पीएसओ के तौर पर नियुक्त किया गया था। वे युद्ध में एक माहिर फौजी थे और कश्मीर व चाइना बॉर्डर पर भी अपनी सेवाएं दे चुके थे। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल में जनता को कम दाम पर मिलेगा सरसों तेल: दाल के दाम में भी मिली है राहत

इतना ही नहीं विवेक कुमार कॉम्बैट फ्री फॉल में काफी माहिर थे तथा उन्हें 30 हजार फीट उंचाई से कूदने में भी महारत हासिल थी। जिस किसी के पास भी ये ट्रेनिंग होती है वे किसी भी हाई अल्टीटयूड हाई ओपनिंग और हाई एल्टीट्यूड लोअर ओपनिंग के जरिए कहीं भी किसी भी मुश्किल जगह पर लैंड कर सकते हैं। वे किसी भी मुश्किल हालात से लड़ने में सक्षम होते हैं।

यह भी पढ़ें: हिमाचल: कई महीनों से 17 वर्षीय की आबरू लूट रहा था युवक, मां की शिकायत पर रेप केस

2012 में हुए थे भर्ती, 2021 में शहादत

बता दें कि विवेक कुमार सीडीएस बिपिन रावत के पीएसओ के तौर पर अपनी सेवाएं दे रहे थे। इस दौरान बीते दो दिन पहले तमिलनाडू में पेश आए हादसे में वे शहीद हो गए। बतौर रिपोर्टस, विवेक कुमार ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा सीनियर सेकेंडरी स्कूल कोसरी से हासिल की थी। इस दौरान वे 2012 में जैक राइफल में भर्ती हुए थे। 

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ