सवर्ण आयोग की मांग बनी आंदोलन-उमड़ा जनसैलाब: विधानसभा के बाहर घमासान, भारी बल तैनात

Ticker

6/recent/ticker-posts

adv

सवर्ण आयोग की मांग बनी आंदोलन-उमड़ा जनसैलाब: विधानसभा के बाहर घमासान, भारी बल तैनात


कांगड़ाः
हिमाचल प्रदेश में सवर्ण आयोग के गठन को लेकर आज पूरे प्रदेश से हजारों की संख्या में लोग विधानसभा का घेराव करने पहुंचे हैं। हालांकि, सरकार की ओर से कई बार आयोग के गठन को लेकर आश्वसत किया गया परंतु गाऊंड लेवल पर इस संबंध में कोई कार्रवाई नहीं हुई।

जयराम सरकार के लिए बड़ी मुश्किल बन सकता है आंदोलन 

वहीं, सरकार द्वारा अनदेखी किए जाने पर सवर्ण समाज के लोगों को अपनी बात मनवाने के लिए आंदोलन का सहारा लेना पड़ा। प्रदर्शनकारियों का कहना है कि या तो सरकार आयोग के गठन में हामी भरे या फिर उनका आंदोलन और तेज हो जाएगा। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल: घर लौट रहीं दो महिलाओं को रौंदकर भाग निकला कार चालक

गौरतलब है कि सवर्ण संगठनों के आह्वाहन पर मंडी लोकसभा चुनाव में भारी संख्या में मत नोटा को डाल दिए गए थे और स्थिति कुछ यूं हो गई थी की हार के अंतर से ज्यादा वोट नोटा को पड़े थे। ऐसे में अब जनांदोलन का रूप लेटी जा रही यह मांग सरकार के सामने काफी समस्याएं पैदा कर सकती है। 

उमड़ा है भारी जन सैलाब

धर्मशाला के तपोवन में इतनी मात्रा में उमड़े जन सैलाब को रोकने के लिए अतिरिक्त पुलिस बल तैनात किया गया है। इस दौरान मौके पर डीआईजी संजय कुंडू सहित एसपी कांगडा खुशाल ठाकुर भी मौजूद हैं। इसी बीच सुरक्षा बलों व क्षत्रिय संगठन व देवभूमि सवर्ण मोर्चा के लोगों के बीच कई बार झड़प व धक्कामुक्की भी हुई।

यह भी पढ़ें: हिमाचल: नशे के जाल में फंसती युवतियां- मोहसिन और ननिका के पास से चरस की बड़ी खेप बरामद

बता दें कि बीते माह यानी 15 नवंबर को सवर्ण समाज के लोगों ने पहले तो शव यात्रा कर पैदल हरिद्वार पहुंचे इसके बाद वहां से गंगाजल की गाड़ी लेकर एक हजार किलोमीटर तक पैदल यात्रा कर आज वे धर्मशाला स्थित तपोवन पहुंचे हैं। 

विक्रमादित्य सिंह के पक्ष में बन सकती हवा!

इस सबंध में जानकारी देते हुए संगठनों के पदाधिकारियों ने बताया कि चाहे कांग्रेस हो या भाजपा दोनों ही पार्टियों के नेताओं को शुद्धिकरण करवाने की ज़रूरत है, ऐसा इसलिए क्योंकि इन दोनों ही दलों में कुछ नेता हैं जो सवर्ण आयोग के गठन को लेकर एतराज़ जता रहे हैं। 

यह भी पढ़ें: शहीद के पिता दिल्ली रवाना: दो दिन से नहीं जला चूल्हा- कॉम्बैट फ्री फॉल में एक्सपर्ट थे विवेक

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि अब वो हरिद्वार से गंगाजल लेकर आ गए हैं और अब हजारों की संख्या में पहुंच कर स्वर्ण आयोग के गठन को लेकर सरकार से हामी भरवाएंगे या फिर आंदोलन और भी तेज होगा। वहीं, कांग्रेस विधायक विक्रमादित्य सिंह इस मांग का पुरजोर समर्थन कर रहे हैं, जो कि मौजूदा सरकार के लिए खतरे की घंटी बन सकती है। 

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ