CM जयराम ठाकुर ने PM मोदी को सौंपा रिपोर्ट कार्ड; चार साल के कामकाज की दी जानकारी

Ticker

6/recent/ticker-posts

adv

CM जयराम ठाकुर ने PM मोदी को सौंपा रिपोर्ट कार्ड; चार साल के कामकाज की दी जानकारी

वाराणसी : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में काशी विश्वनाथ कोरिडोर के उद्घाटन के मौके पर मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर भी पहुंचे थे। इस दौरान कुल 12 भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्री वहां मौजूद थे। मुख्यमंत्रियों के इस सम्मलेन की अध्यक्षता प्रधानमंत्री स्वयं कर रहे थे।

PM को सौंपा रिपोर्ट कार्ड:

बता दें कि इस दौरान प्रधानमंत्री ने राज्यों की ओर से केंद्र प्रायोजित विभिन्न प्रमुख कार्यक्रमों के कार्यान्वयन की प्रगति की समीक्षा की। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने भी केंद्र और राज्य की योजनाओं के माध्यम से प्रदेश की उन्नति व जनकल्याण के प्रयासों के बारे में पीएम को जानकारी दी। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल: टेम्पो में फंसा युवक का पैर, ड्राइवर ने नहीं लगाई ब्रेक; कई मीटर घसीटा, टूटी सांसे

सीएम जयराम ठाकुर ने शून्य बजट प्राकृतिक खेती पर भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के समक्ष विस्तृत प्रस्तुति दी। साथ ही पिछले चार वर्षों में किए कार्यों का रिपोर्ट कार्ड भी मोदी के सामने पेश किया।  

हिमाचल कृषि प्रधान राज्य:

सीएम ने कहा कि हिमाचल प्रदेश एक कृषि प्रधान राज्य है और राज्य सरकार किसानों की आय को कई गुणा बढ़ाने के लिए प्रतिबद्ध है। इस लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए राज्य सरकार प्राकृतिक खेती की विभिन्न तकनीकों जैसे गोमूत्र, गोबर और अन्य स्थानीय उर्वरकों का प्रयोग कर उगाए कृषि एवं बागवानी उत्पादों को बढ़ावा देने के लिए प्रयास कर रही है।

यह भी पढ़ें: काशी में सीएम जयराम ने पत्नी के साथ प्रधानमंत्री मोदी से की भेंट, PM ने सभी CM को दी ये नसीहत

सीएम जयराम ठाकुर ने कहा कि किसानों को प्राकृतिक खेती अपनाने के लिए जागरूक किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि राज्य प्राकृतिक खेती की श्रेष्ठ पद्धति को बढ़ावा देने के लिए दृढ़ प्रयास कर रहा है और किसानों को इस पद्धति को अपनाने के लिए प्रशिक्षित किया गया है। 

फसल विविधीकरण को मिला बढ़ावा:

प्रदेश में वर्ष 2018 में सुभाष पालेकर प्राकृतिक खेती खुशहाल योजना शुरू की गई। प्राकृतिक खेती के लिए 153643 किसानों को प्रशिक्षित किया गया है और वर्तमान में 9192 हेक्टेयर भूमि पर इस पद्धति से खेती की जा रही है। प्रदेश में किसानों की आय में 63.6 प्रतिशत वृद्धि दर्ज की गई है। 

फसल विविधीकरण को बढ़ावा मिला है क्योंकि किसान कम से कम नौ फसलें एक साथ उगा रहे हैं। शून्य बजट प्राकृतिक खेती करने से उत्पादन और किसानों की आय में भी में वृद्धि हुई है। कॉन्क्लेव में भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों और उप मुख्यमंत्रियों ने भाग लिया।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ