शराब कांड पर एक्शन जारी: 2000 लीटर स्पिरिट पकड़ी, यहां मिली अवैध शराब की 9 हजार पेटियां

Ticker

6/recent/ticker-posts

adv

शराब कांड पर एक्शन जारी: 2000 लीटर स्पिरिट पकड़ी, यहां मिली अवैध शराब की 9 हजार पेटियां


ऊना/कांगड़ा।
हिमाचल प्रदेश के मंडी जिले में हुए जहरीली शराब कांड में 7 लोगों की मौत होने के बाद से सूबे की पुलिस शराब तस्करी के खिलाफ जोरदार अभियान चलाए हुए हैं। ऐसे में हिमाचल पुलिस थानों के मालखाने शराब से लबालब भरे पड़े हैं। शराब के तस्करों पर बढ़ते कानूनी शिकंजे के कारण मालखाने मानो मयखाने बन गए हों। कहीं- कहीं तो पूरे के पूरे कमरे इसी केस प्रोपर्टी से अटे हुए हैं।

2000 लीटर स्पिरिट की खेप पकड़ाई 

इस सब के बीच सूबे के दो जिलों से नई अपडेट सामने आई है। जहां प्रदेश के ऊना जिले में अम्ब पुलिस थाना की टीम ने डीएसपी हेडक्वार्टर कुलविंदर सिंह के नेतृत्व में बीते मंगलवार को शाम के समय शक के आधार पर 2000 लीटर स्पिरिट की खेप को कब्जे में लिया है। इसमें छः बड़े ड्रम 200-200 लीटर व आठ प्लास्टिक के 100-100 लीटर के छोटे ड्रम शामिल हैं। 

बताया जा रहा है कि स्पिरिट की ये खेप गोवा से हमीरपुर स्थित रंगस पहुंचाई जानी थी। इसके उपरांत इसे आगे डिलीवर किया जाना था। ऐसे में माना जा रहा है कि इसके तार भी शराब कांड से जुड़ हो सकते हैं। हालांकि, मामले की सच्चाई तो जांच के बाद ही सामने आ पाएगी। फिलहाल पुलिस पता लगाने में जुटी हुई है कि यह स्पिरिट कहां-कहां बेची जानी थी।

कांगड़ा में मिला अवैध शराब का गोदाम,

उधर, शराब कांड़ के बाद आवकारी एवं कराधान विभाग की ओर से विभिन्न जगहों पर छापेमारी की जा रही है। इस दौरान जब टीम ने बीते 24 व 25 जनवरी को कांगड़ा जिले स्थित पालमपुर के राजपुर टांडा में एल-1 गोदाम में छापेमारी की तो वहां उन्हें अंग्रेजी शराब का अधिक स्टाक बरामद हुआ है। बताया जा रहा है कि संचालक की शर्तों के आधार पर रिकार्ड नहीं रखा गया था ऐसे में विभाग ने संचालन के लाईसेंस के खिलाफ कार्रवाई की है। 

इसके अलावा विभाग की टीम ने एल-13 गोदाम में भी निरीक्षण किया। जहां उन्हें स्टाक से अधिक 7000 पेटी शराब बरामद हुई। वहीं, टीम ने राजपुर टांडा में भी एक देसी शराब का अवैध गोदाम पकड़ा गया है। जिसमें 1656 पेटी संतरा की बरामद हुई है। बताया जा रहा है कि इन गोदामों से प्राप्त शराब जोगिंद्रनगर के बॉटलिंग प्लांट में बनी हैं। इन मामलों के संबंध में विभाग की ओर से आबकारी अधिनियम के तहत मामला दर्ज कर आगामी कार्रवाई अमल में लाई जा रही है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ