कुलदीप के कटेंगे पर, सुक्खू का एडजस्टमेंट ! चुनाव के लिए कांग्रेस का नया फार्मूला- ऐसे बंटेगा टिकट

Ticker

6/recent/ticker-posts

adv

कुलदीप के कटेंगे पर, सुक्खू का एडजस्टमेंट ! चुनाव के लिए कांग्रेस का नया फार्मूला- ऐसे बंटेगा टिकट

शिमला: देश में हो रहे पांच राज्यों के चुनाव के बीच हिमाचल प्रदेश में भी पार्टियां चुनाव पूर्व की तैयारियों को लगी हुई हैं। उपचुनाव में मिली जीत से आत्मविश्वास से लबरेज कांग्रेस पार्टी से सुगबुगाहट सामने आई है।

कांग्रेस पार्टी में नया पद!

अभी तक कांग्रेस में प्रदेशाध्यक्ष बदलने की कवायद चल रही थी। नेता प्रतिपक्ष समेत अन्य बड़े नेता दिल्ली दरबार में इसी जुगत में लगे थे। अब पार्टी सूत्रों से मिल रही जानकारी के अनुसार प्रदेशाध्यक्ष बदलना संभव नहीं लग रहा है। निगेटिव संदेश जाने का डर आलाकमान को है।

इन सबके बीच तय हुआ है कि प्रदेश संगठन में एक चुनाव अभियान समिति का अध्यक्ष पद का सृजन किया जाएगा। चुनाव अभियान समिति के अध्यक्ष के पास भी टिकट वितरण प्रणाली में वीटो पॉवर होगा।

गौरतलब है कि अभी कांग्रेस पार्टी में प्रदेशाध्यक्ष और नेता प्रतिपक्ष केवल दो लोगों को ही सेंट्रल इलेक्शन कमेटी में जगह मिलती थी। अब सेंट्रल इलेक्शन कमेटी में तीसरा व्यक्ति भी शामिल होगा। जिसके पद का नाम चुनाव अभियान समिति अध्यक्ष तय किया गया है।

कुलदीप राठौर के पर कतरने की तैयारी!

चुनाव अभियान समिति अध्यक्ष का ओहदा एक तरह से प्रदेशाध्यक्ष के समतुल्य हो गया। हालांकि, प्रदेशाध्यक्ष के पास पार्टी और संगठन की अन्य जिम्मेदारियां भी होती है। लेकिन टिकट वितरण में भूमिका सबसे अहम माना जा है। 

अब जिस तरीके से कांग्रेस ने इस नए पद का सृजन कर सेंट्रल इलेक्शन कमेटी में प्रदेशाध्यक्ष और नेता प्रतिपक्ष के बराबर का ओहदा दिया जा रहा है। ऐसे में माना जा रहा है कि कांग्रेस आलाकमान वर्तमान प्रदेशाध्यक्ष कुलदीप सिंह राठौर के पर कतरने जा रही है ।

कांग्रेस में इस तरह होता है टिकट फाइनल:

प्रदेश इलेक्शन कमेटी (PEC) जिसमें 13 सदस्य होते हैं, वह सबसे पहले नाम शॉर्टलिस्ट कर सेंट्रल इलेक्शन कमेटी को भेजती है। सेंट्रल इलेक्शन कमेटी जिसमें प्रदेशाध्यक्ष, नेता प्रतिपक्ष, चुनाव अभियान समिति के अध्यक्ष (अब से) के साथ केंद्रीय नेतृत्व के लोग बैठते हैं।

सेंट्रल इलेक्शन कमेटी प्रदेश इलेक्शन कमेटी से आए नामों पर नए सिरे से चर्चा करती है। चर्चा के बाद नाम फाइनल किए जाते हैं। उसके बाद औपचारिकता के लिए लिस्ट पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी के पास जाती है। 

इस फ़ॉर्मूला को कांग्रेस पार्टी ने उत्तराखंड विधानसभा चुनाव में आजमाया है। आगामी 14 फरवरी को उत्तराखंड में मतदान होने हैं। चुनाव अभियान समिति का अध्यक्ष पूर्व सीएम हरीश रावत को बनाया गया। माना जा रहा है कि हिमाचल में सुखविंदर सिंह सुक्खू को यह पद दिया जा सकता है। 

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ