जहरीली शराब केस से जुड़ा कांग्रेस नेता का नाम: पार्टी ने निकाला बाहर- BJP हुई हमलावर

Ticker

6/recent/ticker-posts

adv

जहरीली शराब केस से जुड़ा कांग्रेस नेता का नाम: पार्टी ने निकाला बाहर- BJP हुई हमलावर


मंडी/हमीरपुर।
हिमाचल प्रदेश में बीते कुछ दिनों से जहरीली शराब का मसला गरमाया हुआ है। 7 लोगों की जान जाने के बाद तो इस मसले पर सियासत भी शुरू हो गई है। वहीं, इस पूरे प्रकरण को उठाते हुए जहां अभी तक सूबे की प्रमुख विपक्षी पार्टी कांग्रेस ने आक्रामक रुख अपना रखा था, अब वो दबता हुआ नजर आ रहा है। दरअसल, सूबे के हमीरपुर जिले के एक कांग्रेस नेता का इस मामले में नाम सामने आया है। 

विधायक बनने का सपना सजाए बैठा था नीरज 

हमीरपुर कांग्रेस के महासचिव नीरज ठाकुर को उनके पद से हटा दिया है। जिला कांग्रेस हमीरपुर के अध्यक्ष राजेंद्र जार ने बताया कि जांच में नाम सामने आने के बाद नीरज को जिला महासचिव के पद से हटा दिया है। यहां आपको बता दें कि 2011 से 2016 पंचायत उपप्रधान रहने के बाद नीरज लंबे समय से जिला कांग्रेस कमेटी के कार्यक्रमों में भाग लेकर हमीरपुर विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ने के दावे करते रहे हैं। 

नीरज को मुख्य सरगना बना सकती है एसआईटी 

वहीं, अब बीजेपी ने इस विषय को लेकर कांग्रेस के खिलाफ हमलावर रुख इख्तियार कर लिया है। पुलिस द्वारा व्यावसायिक कांप्लेक्स में दबिश देकर शराब की नौ पेटियां बरामद  की थी। इसके बाद पुलिस ने शनिवार शाम को चंडीगढ़ से हिरासत में ले लिया है। बताया जा रहा है कि नीरज भागने की फिराक में था। उसे शहर न छोड़ने की हिदायत दी थी लेकिन वह चंडीगढ़ पहुंच गया, जहां पंजाब में तैनात एसआईटी ने उसे दबोच लिया। सूत्र बता रहे हैं कि नीरज को एसआईटी मुख्य सरगना बना सकती है। 

कांग्रेस नेता जवाब दें- शराब माफिया को किसने संरक्षण दिया 

उधर,  प्रदेश भाजपा महामंत्री एवं विधायक सुंदरनगर राकेश जम्वाल ने कांग्रेस पर पलटवार करते हुए कहा कि कांग्रेस के महामंत्री नीरज ठाकुर के होटल से मिली वीआवी फूल्स मार्का शराब की खेप ने यह साबित किया है कि इस अवैध व्यापार में लगे लोगों को किस पार्टी ने संरक्षण दिया है। कांग्रेस पार्टी में इतने बड़े ओहदे पर बिठाए इस नेता के होटल में मिली इस शराब की खेप को लेकर कांग्रेस नेता जवाब दें कि शराब माफिया को किसने संरक्षण देने का काम किया है। 

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ