हिमाचलः बेटी ने 'जांबाज' पिता को मुखाग्नि दी, दो बेटियां, पत्नी और मां का अब कौन बचा..

Ticker

6/recent/ticker-posts

adv

हिमाचलः बेटी ने 'जांबाज' पिता को मुखाग्नि दी, दो बेटियां, पत्नी और मां का अब कौन बचा..

हमीरपुरः हिमाचल प्रदेश स्थित हमीरपुर जिले के उपमंडल बड़सर की ग्राम पंचायत सठवीं से ताल्लुक रखने वाले भारतीय नौसेना के जांबाज सुरेंद्र ढटवालिया की पार्थिव देह आज उनके पैतृक गांव पहुंची। 

नम आंखो से शहीद को अंतिम विदाई 

जहां पूरे सैन्य सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार किया गया। शहीद को मुखाग्नि उनकी बेटी ने दी। यह मंजर देख वहां मौजूद हर इंसान की आंखें नम हो गई। सबने नम आंखो से शहीद को अंतिम विदाई दी। शहीद जवान अपने पीछे माता केहरो देवी, पत्नी नीलम कुमारी एवं दो बेटियां अंशिका तथा काजल को छोड़ गए हैं। 

28 वर्षों से दे रहे थे सेवाएं 

मिली जानकारी के मुताबिक सुरेंद्र ढटवालिया नौसेना में एमसीपीओ रेंक के अधिकारी थे और पिछले 28 वर्षीं से वह भारतीय नौसेना में अपनी सेवाएं दे रहे थे। इस दौरान बीते मंगलवार को पेश आई घटना में वे शहीद हो गए। 

बता दें कि बीते मंगलवार को मुंबई स्थित नौसेना डॉकयार्ड में युद्धपोत आईएनएस रणवीर में अचानक हुए धमाने की चपेट में आने से हिमाचल वासी सरेंद्र ढटवालिया सहित तीन जवान शहीद हुए हैं, जबकि अन्य 11 के घायल होने की सूचना है। हालांकि, अभी तक इस बात का पता नहीं चल पाया है कि युद्धपोत आईएनएस में धमाका हुआ कैसे।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ