हिमाचल में नई ऊर्जा नीति को मिली मंजूरी: बढ़ेगी कमाई- एक लाख रोजगार भी, जानें आखिर कैसे

Ticker

6/recent/ticker-posts

adv

हिमाचल में नई ऊर्जा नीति को मिली मंजूरी: बढ़ेगी कमाई- एक लाख रोजगार भी, जानें आखिर कैसे


शिमलाः
हिमाचल प्रदेश में बीते कल राजधानी शिमला स्थित राज्य सचिवालय में जयराम ठाकुर की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट बैठक में नई उर्जा नीति को मंजूरी मिल गई है। इसके तहत अब हिमाचल में बिजली उत्पादन तो बढ़ेगा ही बढ़ेगा साथ ही करीब एक लाख रोजगार भी सृजित होंगे। 

जानें नई ऊर्जा नीति के बारे में-

बता दें कि नई ऊजा नीति 15 साल के लिए बनने जा रही है। इसके तहत साल 2030 तक हिमाचल में दस हजार मेगावाट से अधिक विद्युत उत्पादन होगा। इसके लिए प्रदेश में दस हजार मेगावाट क्षमता वाले पंप स्टोरेज परियोजनाएं स्थापित की जाएंगी। 

  • इस नीति के कारण हरित हाइड्रोजन क्षेत्र में निवेश आकर्षित होगा। 
  • प्रदेश में विद्युत उत्पादन बढ़ने के कारण करीब 2 लाख करोड़ रुपए से अधिक का निवेश होगा। 
  • 1 लाख से अधिक के रोजगार सृजित होंगे। 
  • अधिक वार्षिक राजस्व प्राप्त होगा।
  • इसके तहत हिमाचली मूल के लोगों को छोटे बिजली प्रोजेक्ट मिलेंगे। 
  • इसमें पंप से पानी उठाकर बिजली तैयार करने वाले निवेशकों को रियायतें मिलेंगी। 
  • इनमें हिमाचली मूल के लोगों को प्राथमिकता मिलेगी। 
  • सौर ऊर्जा उत्पादन को प्रोत्साहित करने के लिए नई नीति में कई प्रावधान किए जा रहे हैं। 
  • प्रदेश की नई ऊर्जा नीति में हाइडल प्रोजेक्ट का अधिक दोहन होगा।

गौरतलब है कि इससे पहले साल 2006 में हिमाचल ने ऊर्जा नीति बनाई थी, जिसे 15 वर्ष बाद बदला जा रहा है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ