हिमाचल में 10 साल की सेवा का ईनाम! 108 एंबुलेंस कर्मियों को नई कंपनी ने नौकरी से निकाला

Ticker

6/recent/ticker-posts

adv

हिमाचल में 10 साल की सेवा का ईनाम! 108 एंबुलेंस कर्मियों को नई कंपनी ने नौकरी से निकाला


ऊनाः
कहते हैं अगर पूरी मेहनत और लगन से काम किया जाए तो उसका परिणाम अच्छा ही निकलता है, लेकिन इससे विपरीत परिणाम ऊना जिले में देखने को मिला है। जहां स्वास्थ्य विभाग में आपातकालीन सेवा 108 व 102 में बीते दस सालों से काम करने वाले कर्मचारियों को दूध में से मक्खी की तरह निकालकर बाहर का रास्ता दिखा दिया गया।

डीसी राघव शर्मा ने भी हाल ही में उन्हें पुरस्कृत किया था

मिली जानकारी के मुताबिक जिले में चलने वाली एंबुलेंस सेवा में जीवीके कंपनी के तहत 50 कर्मचारी तैनात किए गए थे। वहीं, अब नई कंपनी द्वारा एंबुलेंस सेवा का जिम्मा संभालाने के बाद कुछ ही कर्मचारियों को ऑफर लेटर दिए गए हैं। 

जबकि 7 फार्मासिस्ट और 2 पायलट को पूरी तरह से अनदेखा कर दिया गया। इनमें वे भी शामिल हैं जो बीते 10 सालों से पूरी मेहनत और लगन से अपना काम करते आए हैं। 

इस संबंध में जानकारी देते हुए ईएमटी ज्योति का कहना है कि एंबुलेंस सेवाओं में डीसी राघव शर्मा ने भी हाल ही में उन्हें पुरस्कृत किया था। इतना ही नहीं, उन्होंने कर्तव्य निर्वहन में कभी भी किसी तरह की कोई कोताही नहीं बरती।

जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग से मदद की गुहार लगाई

वहीं, अब इन कर्मचारियों ने अचानक से नौकरी से निकाल देने के कारण जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग से मदद की गुहार लगाई है। ताकि मसले का हल निकाला जा सके। इस संबंध में नौकरी से निकाले गए कर्मचारियों का कहना है कि जॉब ना होने के कारण उनके परिवारों का पालन पोषण मुश्किल हो जाएगा। 

गौरतलब है कि आपातकालीन एंबुलेंस सेवा 108 व 102 लोगों के लिए काफी मायने रखती है। वाहन के चालक ना जानें कितने ही लोगों को समय पर अस्पताल पहुंचाकर उनकी जान बचाते हैं। परंतु उनके इस निष्ठावान कार्य के लिए उन्हें एक अनोखा ही पुरस्कार दिया गया है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ