हिमाचल में नहीं आएगा 'दिल्ली' की तरह 'जीरो बिल'- 60 यूनिट से कम पर भी लगेंगे पैसे

Ticker

6/recent/ticker-posts

adv

हिमाचल में नहीं आएगा 'दिल्ली' की तरह 'जीरो बिल'- 60 यूनिट से कम पर भी लगेंगे पैसे


शिमला।
हिमाचल प्रदेश के सीएम जयराम ठाकुर ने बीते कल पूर्ण राजत्व दिवस के मौके पर कई बड़े ऐलान कर सौगातों का पिटारा ही खोल दिया। इसी में से एक ऐलान के तहत सूबे में बिजली बिल के टैरिफ बदल दिए गए, जिसके अनुसार 60 यूनिट बिजली की खपत वालों को बिल का भुगतान नहीं करना होगा।

दिल्ली में 200 यूनिट से कम पर आता है जीरो बिल 

दिल्ली की केजरीवाल सरकार से प्रेरित इस 'फ्री मॉडल' को सिर्फ हिमाचल ही नहीं, बल्कि उत्तर प्रदेश और पंजाब भी अपना चुके हैं। हालांकि, हिमाचल में दिल्ली से काफी अलग स्थित रहने वाली है। एक तरफ जहां दिल्ली में सरकार ने 200 यूनिट तक के लिए बिजली मुफ्त कर दी है। वहीं, 200 से यूनिट से अधिक बिजली का उपभोग ना करने पर इसके अतिरिक्त जनता से कोई चार्ज भी नहीं वसूला जाता है और बिजली का बिल जीरो आता है। 

हिमाचल में 60 यूनिट से कम जलाने पर भी देना होगा चार्ज 

वहीं, हिमाचल प्रदेश में ऐसा कुछ भी नहीं होने वाला। जी हां, अगर आप हिमाचल में 60 यूनिट से कम बिजली की खपत करते हैं, तो भी आपको मीटर रेंट और सर्विस चार्ज चुकाने होंगे। अब जयराम सरकार के इस फैसले को लेकर जनता की भी मिली जुली प्रतिक्रियाएं सामने आ रही हैं, जिसमें से कुछ लोग सरकार पर इस तरह के ऐलान करने जनता को मूर्ख बनाने का आरोप लगा रहे हैं। 

यहां समझिये बिजली बिलों में आने वाले बदलाव 

बिजली बोर्ड अब तक शून्य से 60 यूनिट तक बिजली खपत पर 2.30 रुपए के हिसाब से वसूली करता रहा है। ऐसे में 60 यूनिट के दायरे में आने वाले उपभोक्ताओं को इस घोषणा के बाद से 138 रुपए तक का फायदा होगा। बिजली बोर्ड ने 60 यूनिट तक टैरिफ चार्ज 3.30 रुपए निर्धारित किया है, लेकिन इसमें एक रुपये की सब्सिडी दी जाती है और सबसिडी के बाद उपभोक्ता भुगतान करते हैं।

ऐसे उपभोक्ताओं को बिजली बोर्ड ने 40 रुपए फिक्स चार्ज तय किया है। इसकी अदायगी उपभोक्ताओं को करनी ही होगी। 60 यूनिट के बाद एक भी यूनिट बढऩे पर बिल की वसूली एक रुपए प्रति यूनिट के हिसाब से होगी। 125 यूनिट खपत वाले उपभोक्ताओं की 262.50 रुपए की मासिक बचत इस नई घोषणा के बाद होगी। बिजली बोर्ड ने इस श्रेणी में 70 रुपए तक फिक्स चार्ज तय किया गया है। इसका भुगतान उपभोक्ताओं को करना ही होगा।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ