हिमाचल: पिता ने दूध बेचकर किया संघर्ष और बेटी ने देश भर में ऊंचा किया नाम, देशभर में 47वां स्थान

Ticker

6/recent/ticker-posts

adv

हिमाचल: पिता ने दूध बेचकर किया संघर्ष और बेटी ने देश भर में ऊंचा किया नाम, देशभर में 47वां स्थान


हमीरपुरः
हिमाचल प्रदेश के युवा अपनी मेहनत और लगन के चलते अपना व अपने प्रदेश का नाम रोशन करने में लगे हुए हैं। ऐसा ही कर दिखाया है हमीरपुर जिले की दडूही पंचायत के गांव बुरनाड़ की रहने वाली नाजिया ने। 

यह भी पढ़ेंः हिमाचलः म्यूजिक सिस्टम बंद करने को लेकर हुई बहस, नाई ने पेट में घुसा दी कैंची

हाल ही में घोषित हुए नीट परिक्षा के परिणाम में नाजिया ने पूरे देशभर में 47 वीं रैंक हासिल की है, जबिक प्रदेश स्तर पर उन्होंने अन्य पिछड़ा वर्ग में 5वां स्थान प्राप्त किया है। उनके बेहतरीन प्रदर्शन के चलते उनका चयन एमबीबीएस की पढ़ाई के लिए बिलासपुर जिले स्थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) के लिए हुआ है। अब नाजिया यहां से अपनी एमबीबीएस की पढ़ाई करेंगी। 

दूध बेचते हैं पिता

मिली जानकारी के मुताबिक नाजिया बेहद ही निर्धन परिवार से संबंधित हैं। उनके पिता दूध बेचने का काम करते हैं, जबकि उनकी माता गृहणी हैं। नाजिया छः बहनों मे सबसे बड़ी है। नाजिया ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा नादौन उपमंडल के तहत आती रंगस पंचायत की राजकीय प्राथमिक पाठशाला बन्न से ग्रहण की है। इसके उपरांत 12वीं में मेडिकल की पढ़ाई राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला मटाहनी से की और प्रथम स्थान हासिल किया। 

यह भी पढ़ेंः हिमाचलः 26 वर्षीय ने निगला जहर- घरवालों ने बताया गलती से पिया, चली गई जान

2020 में बीएएमएस में हुई थी चयनित

इसके बाद नाजिया ने 2020 में नीट की परीक्षा दी। उसमें बीएएएस क पढ़ाई के लिए उसका चयन राजकीय आयुर्वेदिक स्नातकोत्तर महाविद्यालय पपरोला के लिए हुआ। बीएएमएस की पढ़ाई करने के साथ-साथ नाजिया ने नीट की तैयारी जारी रखी और अब बेहतर प्रदर्शन करते हुए नीट परिक्षा को पास किया। 

माता पिता व गुरुओं को दिया सफलता का श्रेय

इस संबंध में नाजिया ने जानकारी देते हुए बताया कि बीएएमएस की पढ़ाई बीच में छोड़ने का दुख है, लेकिन एमबीबीएस में दाखिला मिलने का सुकून भी है। अपनी सफलता का श्रेय नाजिया ने अपने अध्यापकों व माता-पिता को दिया है। नाजिया की इस उपलब्धि पर सभी इलाका वासियों समेत ऑल इंडिया गुर्जर महासभा तथा हिमाचल प्रदेश मुस्लिम वेलफेयर सोसायटी ने शुभकामनाएं दी हैं।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ