हिमाचल: सवर्ण आयोग की मांग पर आंदोलन चलाने वाले क्षत्रिय नेता अरेस्ट, जनता में आक्रोश

Ticker

6/recent/ticker-posts

adv

हिमाचल: सवर्ण आयोग की मांग पर आंदोलन चलाने वाले क्षत्रिय नेता अरेस्ट, जनता में आक्रोश


सिरमौरः
हिमाचल प्रदेश में स्वर्ण समाज आयोग के गठन को लेकर लगातार सरकार के खिलाफ हल्ला बोल रहे देवभूमि क्षत्रिय संगठन के प्रदेश अध्यक्ष रुमित ठाकुर को पुलिस द्वारा गिरफ्तार किए जाने की खबर सामने आई है। मामला प्रदेश के सिरमौर जिले का है। बताया जा रहा है कि यह गिरफ्तारी मिली शिकायत के आधार पर की गई है।

कल रात ही उठा लिया था, आज किया अरेस्ट 

मिली जानकारी के मुताबिक बीती रात रुमित ठाकुर को पुलिस द्वारा पूछताछ के लिए बुलाया गया था परंतु उस वक्त उनकी गिरफ्तारी नहीं हुई थी। वहीं, आज सुबह पुलिस द्वारा प्रदेश अध्यक्ष को गिरफ्तार किया गया है। ऐसे में उनकी गिरफ्तारी के बाद एक बार फिर सोशल मीडिया पर लोगों की तीखी प्रतिक्रियाएं शुरु हो गई हैं। इस सब के बीच देवभूमि क्षत्रिय संगठन से जुड़े कार्यकर्ताओं ने आज नाहन कूच करने की चेतावनी भी दी है। 

बता दें कि दलित शोषण मुक्ति मोर्चा ने बीते शनिवार को एसपी सिरमौर के पास ज्ञापन सौंपते हुए प्रदेश अध्यक्ष रुमित ठाकुर के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की थी। इस पर कार्रवाई करते हुए पुलिस द्वारा मामले के संबंध में रुमित ठाकुर को गिरफ्तार किया गया है। 

एएसपी ने की गिरफ्तारी की पुष्टि

मामले की पुष्टि करते हुए एएसपी बबिता राणा ने बताया कि रुमित सिंह ठाकुर का एक वीडियो वायरल हुआ था, जिसमें एक मामले में पंचायत प्रधान को सार्वजनिक जगह पर आपत्तिजनक शब्द कहे गए थे, जिसको लेकर दलित मोर्चा ने पुलिस के पास शिकायत दर्ज की थी। उसी के आधार पर यह गिरफ्तारी की गई है।

उधर, माहौल को शांतिपूर्ण बनाए रखने के लिए पुलिस फोर्स को अलर्ट मोड पर कर दिया गया है। इसके साथ ही उन्होंने लोगों से अपील की है कि वे शांति व संयम बनाए रखें जो भी कार्रवाई की जा रही है कानून के दायरे में ही की जा रही है।

सवर्ण मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष ने कहा- झूठा केस करवाया दर्ज

इस संबंध में जानकारी देते हुए सवर्ण मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष मदन सिंह ठाकुर ने इस मामले को बिल्कुल झूठा करार दिया है। उन्होंने कहा झूठे एट्रोसिटी मामले को लेकर पुलिस निष्पक्ष रूप से जांच करे। उनका कहना है कि हर बयान को तोड़ मरोड़ कर दर्शाया गया है। इसे लेकर उन्होंने पुलिस से आरोपित प्रधान और उसके पति पर झूठा केस दर्ज करवाने को लेकर जांच करने की मांग की है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ