भारत के किशोरों ने जीता 5वां वर्ल्ड कप: हिमाचल का बेटा बना 'प्लेयर आफ द मैच', मिलेंगे लाखों रुपए

Ticker

6/recent/ticker-posts

adv

भारत के किशोरों ने जीता 5वां वर्ल्ड कप: हिमाचल का बेटा बना 'प्लेयर आफ द मैच', मिलेंगे लाखों रुपए


नॉर्थ साउंड:
भारतीय टीम ने इतिहास रचते हुए 5 वीं बार अंडर-19 वर्ल्ड कप का खिताब जीत लिया है। टीम इंडिया ने इंग्लैंड टीम को चार विकेट से पटखनी दी है। भारतीय टीम ने पूरे टूर्नामेंट में शानदार खेल का नजारा पेश किया और देश को जीत दिलाई। 

BCCI ने खोला खजाना, खिलाड़ियों पर होगी पैसों की बारिश

अब बीसीसीआई ने बड़ी घोषणा की है, उन्होंने अंडर 19 वर्ल्ड कप का खिताब जीतने वाली टीम को बड़ा अवॉर्ड देगी। अंडर 19 वर्ल्ड कप जीतने वाले भारतीय टीम के हर सदस्य के लिए बीसीसीआई ने 40 लाख रूपए और सहयोगी स्टाफ के लिए 25 लाख रूपए पुरस्कार की घोषणा की है। 

हिमाचल के लाल ने किया कमाल 

भारत के लिए मैच में जीत के हीरो रहे हिमाचल के नाहन में जन्में 'राज बावा' जिन्होंने पहले पांच विकेट झटके फिर उसके बाद बल्ले से भी 35 रनों का योगदान दिया। उन्हें प्लेयर ऑफ द मैच भी चुना गया। 

राज बावा ने इस टूर्नामेंट में सर्वाधिक 162 रनों के साथ 6 मुकाबलों में 252 रन बनाए और फाइनल में पांच विकेट के साथ कुल 9 विकेट भी लिए।

दादा ने जीता ओलंपिक में गोल्ड मेडल

राज बावा की फैमिली का खेलों से गहरा नाता रहा है। उनके दादा त्रलोचन बावा 1948 के ओलंपिक में गोल्ड मेडल जीतने वाली भारतीय हॉकी टीम के सदस्य थे। राज बावा के पिता सुखविंदर को हॉकी और क्रिकेट दोनों खेलों में रुचि थी। हालांकि, पिता ने खेल छोड़कर क्रिकेट कोच बन गए।

युवराज सिंह हैं राज के रोल मॉडल

राज बावा के पिता सुखविंदर भारतीय टीम के पूर्व क्रिकेटर युवराज सिंह को भी बचपन में कोचिंग दे चुके हैं। युवराज सिंह ने भारतीय टीम को बैट और बॉल से कई मुकाबलों में जीत दिलाई थी। 

युवराज के शानदार परफॉर्मेंस को देखकर राज अंगद बावा ने उनके नक्शे कदम पर चलने का फैसला किया। युवराज की तरह राज बावा भी 132 नंबर की जर्सी पहनकर खेलते हैं।

धवन का तोड़ा था रिकॉर्ड

राज बावा ने इसी अंडर-19 वर्ल्ड कप में बल्ले से भी एक खास रिकॉर्ड बनाया था। राज बावा अंडर-19 विश्व अप के इतिहास में भारत की ओर से सर्वाधिक स्कोर करने वाले खिलाड़ी बन गए थे। 

उन्होंने युगांडा के खिलाफ टीम के अंतिम ग्रुप मैच के दौरान यह उपलब्धि हासिल की थी। उस मुकाबले में राज 14 चौकों और आठ छक्कों की मदद से 108 गेंदों में 162 रन बनाकर नाबाद रहे थे।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ