हिमाचल बन रहा 'नशा टूरिज्म' का गढ़: बंगाली और उत्तराखंडी तस्कर बड़ी खेप संग पकड़ाए, लाखों का नशा

Ticker

6/recent/ticker-posts

adv

हिमाचल बन रहा 'नशा टूरिज्म' का गढ़: बंगाली और उत्तराखंडी तस्कर बड़ी खेप संग पकड़ाए, लाखों का नशा

मंडी: हिमाचल प्रदेश में नशे का कारोबार इतना अधिक फलता-फूलता जा रहा है कि अब दुसरे राज्यों से टूरिस्ट भी नशा करने यहां पहुंच रहे हैं। साथ ही यहां के कसोल के चरस की तस्करी भी बढ़ रही है। 

ताजा मामला मंडी जिले का है। जहां सदर थाना पुलिस ने बीती शाम को सवा दो किलो चरस और पौने तीन ग्राम चिट्टे के साथ तीन लोगों को गिरफ्तार किया है। 

बंगाली की गाड़ी में चरस:

मंगलवार को सदर थाने की टीम ने भ्यूली पुल के पास नाका लगाया हुआ था। कुल्लू की तरफ से आई एक टैक्सी को जांच के लिए रोका गया तो उसमें सवार दो युवकों से 2 किलो 254 ग्राम चरस की खेप बरामद की गई।

दोनों युवक चरस की खेप को टैक्सी के माध्यम से कसोल से चंडीगढ़ ले जा रहे थे। पकड़े गए युवकों की पहचान 36 वर्षीय देवारूप बेनर्जी पुत्र देव रंजन बेनर्जी निवासी कोलकाता और 26 वर्षीय देव माल्या भट्टाचार्य पुत्र मनस भट्टाचार्य निवासी कोलकाता पश्चिम बंगाल के रूप में हुई है।

बस स्टैंड पर मिला चिट्टेबाज:

वहीं, दूसरी तरफ पुलिस ने बीती रात को मंडी बस स्टैंड पर गश्त के दौरान एक युवक को 2.49 ग्राम चिट्टे के साथ गिरफ्तार किया है। यह युवक मनाली से उत्तराखंड बस पर जा रहा था। मंडी बस स्टैंड पर कुछ समय के रूका हुआ था। 

पुलिस न संदेह के आधार पर जब इसकी तलाशी ली तो चिट्टा बरामद किया गया। पकड़े गए युवक की पहचान 23 वर्षीय हेमचंद्र पाठक पुत्र गिरिश चंद्र पाठक निवासी हल्द्वानी उत्तराखंड के रूप में हुई है।

एसपी मंडी शालिनी अग्निहोत्री ने दोनों मामलों की पुष्टि की है। एनडीपीएस एक्ट के तहत मामले दर्ज करके आगामी कार्रवाई शुरू कर दी गई है। 

बता दें कि सदर थाना पुलिस की टीम ने मात्र एक महीने में नशे की तस्करी का नौंवां मामला पकड़ने में सफलता हासिल की है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ