हिमाचल की बेटी ने रचा इतिहास: ITBP में बनी पहली महिला डॉग हैंडलर, इस काम में है बड़ा खतरा

Ticker

6/recent/ticker-posts

adv

हिमाचल की बेटी ने रचा इतिहास: ITBP में बनी पहली महिला डॉग हैंडलर, इस काम में है बड़ा खतरा


शिमलाः
हिमाचल प्रदेश के युवा अपनी मेहनत तथा लगन के चलते अपना तथा अपने क्षेत्र का नाम रोशन कर रहे हैं। ऐसा ही कुछ कर दिखाया है हिमाचल की रहने वाली प्रिया ठाकुर ने। बता दें कि प्रिया ठाकुर भारतीय-तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी) में पहली महिला डॉग हैंडलर बनी हैं। यहां तक की प्रिया पहली महिला कांस्टेबल हैं जिन्होंने अपनी बेसिक ट्रेनिंग पूरी की है। 

ITBP-9 हैंडलर्स में होंगी शामिल 

मिली जानकारी के मुताबिक प्रिया ठाकुर राष्ट्रीय प्रशिक्षण सीमा केंद्र में पहली महिला डॉग हैंडलर के तौर पर आईटीबीपी के-9 हैंडलर्स के पहले बैच में शामिल होंगी। इस सेंटर में कुत्तों, घोड़ों तथा टट्टू जैसे जानवरों को हैंडल करने का प्रशिक्षण दिया जाता है। 

बता दें कि इससे पहले आईटीबीपी में अधिकारी रेंक में कुछ महिला पशु चिकित्सकों को छोड़कर सेवा में केवल पुरुष ही हैं जो कुत्ते के संचालक हैं। वहीं, अब प्रिया ठाकुर पहली महिला डॉग हैंडलर के तौर पर जल्द ही इस बैच में शामिल हो जाएंगी। 

कठिन इलाकों में देनी होगी सेवाएं

इस संबंध में जानकारी देते हुए आईटीबीपी के एक अधिकारी ने कहा कि ऐसी इकाइयों में तैनात महिला डॉग हैंडलर्स को कठिन इलाकों और खतरनाक परिस्थितियों में लड़ाकू ड्यूटी और अन्य परिचालन कार्यों को सौंपा जाएगा।

जानें क्या बोलीं प्रिया ठाकुर

इस संबंध में जानकारी देते हुए प्रिया ठाकुर ने बताया कि जब मैं एचपी पुलिस विभाग में शामिल हुई तो मुझे डॉग स्क्वायड के बारे में पता चला और यह भी पता चला कि वहां कोई महिला संचालक नहीं थी। एक डॉग लवर होने के नाते जब मुझे इस अवसर के बारे में पता चला तो मैंने झट से वो ऑफर ले लिया। 

प्रिया ठाकुर का कहना है कि सॉफ्टी मेरा पहला पुलिस डॉग है। 9 महीने की ट्रेनिंग में से हमने 3 महीने की ट्रेनिंग पूरी कर ली है। प्रिया कहती हैं कि वे सीमाओं पर गश्त, विस्फोटकों और नशीले पदार्थों का पता लगाने, खोज और बचाव मिशन, संदिग्धों पर नजर रखने और उन्हें रोकने जैसे कर्तव्यों का पालन करेंगी।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ