'पठानिया मानदा नहीं' : मंत्री ने विक्रमादित्य को फिर दिखाया आईना; बताया- चल रहे जमानत पर बाहर

Ticker

6/recent/ticker-posts

adv

'पठानिया मानदा नहीं' : मंत्री ने विक्रमादित्य को फिर दिखाया आईना; बताया- चल रहे जमानत पर बाहर


शिमला:
विक्रमादित्य सिंह और वन मंत्री राकेश पठानिया के बीच चल रहा विवाद गहराता ही जा रहा है। दोनों नेताओं के बीच ज़ुबानी जंग का सिलसिला लगातार जारी है।

विक्रमादित्य ने सदन में वन मंत्री के खिलाफ कड़ा ऐतराज जताते हुए सदन में कहा था कि मंत्री खलड़ी में रहें। इस टिपण्णी के बाद सोमवार को वन मंत्री ने विक्रमादित्य सिंह के इस बयान पर पलटवार किया है।

वीरभद्र सिंह का सम्मान:

वन मंत्री राकेश पठानिया ने कहा कि सदन में वीरभद्र सिंह का उन्होंने नाम तक नहीं लिया था। सिर्फ ये बोला कि अपने स्कूटर पर सेब भेजे है। जिसके बाद राकेश पठानिया ने विक्रमादित्य पर हमला बोलते हुए कहा कि ईडी में उनके खिलाफ मामले चल रहे हैं और जमानत पर बाहर हैं।

राकेश पठानिया ने आगे कहा कि विक्रमादित्य सिंह की भाषा में राजवाड़ा शाही झलकती है। विक्रमादित्य सदन में बोल रहे हैं कि 17 विधानसभा में उनके परिवार का राज है, उन्होंने कांग्रेस पार्टी का नाम तक नहीं लिया। विक्रमादित्य छोटा भाई है पूरी इज्जत है, लेकिन इस तरह के बयान किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं किए जाएंगे।

वहीं, वीरभद्र सिंह पर की गई टिप्पणी पर राकेश पठानिया ने कहा कि उन्होंने सदन में वीरभद्र सिंह का नाम तक नहीं लिया है। उन्होंने कहा कि वीरभद्र सिंह वरिष्ठ और सम्मनिया नेता हैं, और उनका सब सम्मान करते हैं, वे इस दुनिया में नही है। विधानसभा के अंदर उन पर कोई भी टिप्पणी नही की गई है। 

जमानत पर बाहर हैं विक्रमादित्य:

विधानसभा में रिकॉर्डिंग है, उसे देख सकते हैं। राकेश पठानिया ने कहा कि जब उनका नाम नही लिया तो विक्रमादित्य सिंह को किस बात की तकलीफ हो रही है। किस बात का उन्हें दर्द है। वो मुझे खलडी में रहने की नसीहत दे रहे हैं और मेरा पुतला फुंकवा रहे हैं, उससे मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता है। 

ना ही में डरने वाला हूं। आर्मी का बेटा हूं और अच्छे खानदान से आता हूं। जो भ्रष्टाचार हुआ है उसके खिलाफ हमेशा लड़ाई लड़ता आया हूंए आगे भी लडूंगा। सदन में सिर्फ ये बोला कि अपने स्कूटर पर सेब भेजे है। 

ईडी में विक्रमादित्य के खिलाफ मामले चल रहे है और जमानत पर बाहर है। जिस व्यक्ति की मृत्यु हो जाती है उस पर सभी मामले खत्म हो जाते हैं। लेकिन विक्रमादित्य और उनकी माता पर मामले चल रहे हैं।

वॉकआउट करना विपक्ष की आदत:

वहीं विधानसभा बजट सत्र के दौरान विपक्ष द्वारा किए जा रहे वॉकआउट पर सीएम जयराम ठाकुर ने भी पलटवार किया। उन्होंने कहा कि विपक्ष की सदन से वॉकआउट करने की आदत बन चुकी है। विपक्ष बिना बात के ही हर रोज वॉकआउट करता है। जयराम ठाकुर ने बताया कि विपक्ष ने आज बिना बात के सदन से वॉकआउट किया। 

वहीं, विपक्ष के आरोपों पर उन्होंने कहा कि विपक्ष लगातार अभद्र भाषा का इस्तेमाल कर रहे थे। सदन में बजट पर चर्चा महत्वपूर्ण हो रही है, अच्छा होता कि बजट में अपने अच्छे सुझाव देते, सार्थक चर्चा होती, लेकिन बहुत बड़ा दुर्भाग्य है की विपक्ष जब मन आता है तो उठकर बाहर चले जाते हैं।

बीजेपी नेता ही जाएगा राज्यसभा:

वहीं सीएम जयराम ठाकुर ने कहा कि राज्यसभा की एक सीट खाली हो रही है। उस सीट को जल्द भरा जाएगा। उन्होंने कहा कि बीजेपी नेता को ही राज्यसभा सदस्य बनाया जाएगा। जल्द ही इस बीजेपी नेताओं से चर्चा करके इस सीट को भरा जाएगा।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ