हिमाचल BJP के पूर्व महामंत्री बगावत पर उतरे: थाम लेंगे 'आप' का दामन! समझें समीकरण

Ticker

6/recent/ticker-posts

adv

हिमाचल BJP के पूर्व महामंत्री बगावत पर उतरे: थाम लेंगे 'आप' का दामन! समझें समीकरण


कांगड़ा:
हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा जिला अंतर्गत नूरपुर विधानसभा सीट पर सियासी सरगर्मी काफी तेज हो गई है। इस सीट से विधायक राकेश पठानिया वर्तमान सरकार में वन मंत्री हैं। लेकिन उनकी राहें आगामी चुनाव में आसान नहीं होने जा रही है। 

निक्का थामेंगे झाड़ू!:

बता दें कि नूरपुर विधानसभा की जब भी बात होती है तो यहां से एक बड़ा नाम सामने आता है भाजपा के पूर्व महामंत्री रणवीर निक्का। निक्का भाजपा के नेता हैं और 2012 में पार्टी के तरफ से प्रत्याशी भी थे। कांग्रेस के अजय महाजन के आगे इनकी जमानत जब्त हो गई थी। पठानिया दूसरे नंबर पर रहे।

वर्तमान में निक्का भाजपा से उपेक्षित चल रहे हैं और क्षेत्र में ये कयास लगने शुरू हो गए हैं कि निक्का आम आदमी पार्टी का दामन थाम सकते हैं। इस सिलसिले में टीम केजरीवाल से उनकी बातचीत चल रही है। 

बागी बने फिर रहे निक्का 

आने वाले दिनों में बड़ा धमाका हो सकता है। निक्का ने भी इन कयासों से इंकार नहीं किया है। उन्होंने कहा कि राजनीति में विकल्प हमेशा खुले होते हैं।

निक्का वर्तमान में अपनी पार्टी की सरकार और संगठन दोनों जगह हाशिए पर चल रहे हैं और नूरपुर क्षेत्र में पक्ष विपक्ष पर जमकर ताबड़तोड़ हमले भी करते हुए बारी बारी की राजनीति के तिलस्म को तोड़ने का दम भर रहे हैं। लेकिन क्या वह तीसरा विकल्प बन पाएंगे, यह अभी दूर की बात है।

चलेगा झाड़ू या पठानिया के लिए फूल टॉस;

पूर्व विधायक एवं कांग्रेस के जिलाध्यक्ष अजय महाजन भी मैदान में डटे हुए हैं। जन संपर्क अभियान चलाकर सक्रियता बढ़ा दी है। वहीं, निक्का ने भी ऐलान कर रखा है कि वे हर हाल में चुनाव लड़ेंगे।

नूरपुर विधानसभा क्षेत्र की सीमा पंजाब से लगती है। आम आदमी पार्टी की जैसी लहर पंजाब में देखने को मिला है ऐसे में इसका थोडा बहुत असर नूरपुर में भी देखने को मिल सकता है। निक्का भाजपा में सरकार और संगठन दोनों से उपेक्षित हैं।

ऐसे में आने वाले समय में देखना दिलचस्प होगा कि यदि निक्का आम आदमी पार्टी का दामन थामते हैं तो क्या वो झाड़ू चला पाएंगे या फिर उनका चुनावी मैदान में आना राकेश पठानिया के लिए फूल टॉस गेंद साबित होगा।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ