शिमला की सड़कों पर हजारों कर्मचारी: विधानसभा की ओर बढे, DGP समेत भारी पुलिस बल तैनात

Ticker

6/recent/ticker-posts

adv

शिमला की सड़कों पर हजारों कर्मचारी: विधानसभा की ओर बढे, DGP समेत भारी पुलिस बल तैनात


शिमला।
हिमाचल में ओल्ड पेंशन स्कीम की बहाली की मांग को लेकर सैंकड़ों कर्मचारी सड़कों पर उतर गए है। कर्मचारियों ने दोपहर बाद विधानसभा की तरफ कूच कर दिया। विधानसभा से सटे चौड़ा मैदान में प्रदर्शनकारियों से निपटने के लिए पुलिस कर्मी मुस्‍तैद कर दिए गए हैं। लेकिन सैकड़ों कर्मचारी बैरिकेड्स के पास पहुंच गए। 

पुलिस ने बैरिकेड्स लगाकर 103 टनल के पास इन्हें रोक लिया है।सर्कुलर रोड पूरी तरह बंद हो गया है। ट्रैफिक को टूटीकंडी बाइपास से डायवर्ट किया गया है। कर्मचारी सड़क पर बैठ गए हैं। इससे पहले कर्मचारी टूटीकंडी क्रॉसिंग में एकत्रित हुई और घेराव की रणनीति बनाई। कर्मचारी परंपरागत लोक वाद्ययंत्रों और ढोल नगाड़ों के साथ पहुंचे हैं।

सरकार की धरने में शामिल न होने की चेतावनी के बावजूद बड़ी संख्या में कर्मचारी पुरानी पेंशन के लिए सड़कों पर उतर आएं हैं। इनका लक्ष्य विधानसभा के बाहर धरना देना है, लेकिन इन्हें रोकने के लिए पुलिस के पहरे को और कड़ा कर दिया गया है। डीजीपी संजय कुंडू भी सुरक्षा प्रबंधों का जायजा ले रहे हैं। डीजीपी ने पुलिस के अन्‍य अधिकारियों के साथ चौड़ा मैदान का मुआयना किया।

शिमला हुआ जाम

NPS कर्मचारियों के धरने से आधा शिमला जाम हो गया है। ट्रैफिक जाम के कारण आम लोगों को भी कठिनाईयों का सामना करना पड़ रहा है।

हालांकि, प्रदर्शन के दौरान एनपीएस कर्मचारियों ने मानवता की मिसाल पेश की। कर्मचारियों ने एंबुलेंस वाहन को रास्ता दिया। पूरा मार्ग एनपीएस कर्मचारियों ने रोक रखा था। इस बीच एंबुलेंस का सायरन बजने पर कर्मचारियों ने तुरंत मार्ग को खाली किया। 

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ