हिमाचल कांग्रेस के अन्दर ही बन गए दो दल: चुनाव से पहले की ये गुटबाजी पड़ेगी भारी- दिल्ली भी नाखुश

Ticker

6/recent/ticker-posts

adv

हिमाचल कांग्रेस के अन्दर ही बन गए दो दल: चुनाव से पहले की ये गुटबाजी पड़ेगी भारी- दिल्ली भी नाखुश


शिमलाः
हिमाचल प्रदेश कांग्रेस पार्टी के नेता संगठनात्मक चुनावों को लेकर दो दलों में बंट गए हैं। जहां एक दल इन चुनावों के पक्ष में है। जबकि, दूसरा दल विधानसभा तथा नगर निगम चुनाव की आड़ लेकर इन्हें टालना चाहता है। 

चुनाव अधिकारी ने लगाई फटकार

सदस्यता अभियान में पार्टी के नेताओं के बीच हो रही गुटबाजी के कारण हाईकमान भी काफी नाखुश है और शायद यही कारण है कि दो दिन पहले राजधानी शिमला में आयोजित कांग्रेस पार्टी की बैठक में कांग्रेस की प्रदेश चुनाव अधिकारी दीपा दासमुंशी ने कड़ा रुख अपनाते हुए पार्टी के कुछ नेताओं को फटकार लगाई। 

पहले भी स्थगित हो चुके हैं चुनाव 

बता दें कि साल 2017 में कांग्रेस पार्टी द्वारा सदस्यता अभियान चला था। इस दौरान कई राज्यों में विधानसभा चुनावों को मद्देनजर रखते हुए हिमाचल में इन्हें स्थगित किया गया था। इस दौरान कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष सुखविंद्र सिंह सुक्खू थे। इसके उपरांत इंदिरा गांधी की जयंती पर यानी 19 नवंबर 2021 को हिमाचल में दोबारा सदस्यता अभियान शुरु हुआ। 

चुनाव अधिकारी ले रही बैठकें

इस दौरान पूर्व सांसद दीपा दासमुंशी को प्रदेश चुनाव अधिकारी और शमीमा रैना को सहायक चुनाव अधिकारी बनाया गया। वहीं, अब सदस्यता अभियान के तहत दीपा दासमुशी हमीरपुर, ऊना सहित सिरमौर व सोलन में बैठकें ले चुकी हैं। इसी कड़ी में उन्होंने दो दिन पहले यानी शुक्रवार को राजधानी शिमला में तथा शनिवार को बिलासपुर, रविवार को मंडी जिले में जिला कांग्रेस कमेटी की बैठक ली। 

वहीं, सदस्यता अभियान के बाद पहले बूथ स्तर पर चुनाव होंगे। इन चुनावों के बाद ब्लॉक, जिला और प्रदेश स्तर की कार्यकारिणी का चुनाव होगा। जिस पद के लिए सर्वसम्मति बनेगी, वहां चुनाव नहीं होंगे।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ