हिमाचल में 1.30 करोड़ रूपए का नया घोटाला आया सामने: पुलिस के पास दर्ज हुआ केस

Ticker

6/recent/ticker-posts

adv

हिमाचल में 1.30 करोड़ रूपए का नया घोटाला आया सामने: पुलिस के पास दर्ज हुआ केस


शिमला।
हिमाचल प्रदेश में एक नया घोटाला हुआ है। सूबे के शिमला जिले के अंतर्गत आते ठियोग उपमंडल में जगेड़ी हिमफेड के पेट्रोल पंप पर यह घोटाला हुआ है। इस घोटाले में करीब 1.30 करोड़ रूपए का हेरफेर होने की रिपोर्ट है। हिमफेड द्वारा ठियोग पुलिस स्टेशन में इस मामले की शिकायत दर्ज करा दी गई है। 

दो लोगों ने ही कर डाला पूरा घोटाला 

हिमफेड के इंचार्ज यशवंत वर्मा की तरफ से यह शिकायत पुलिस के पास दी गई है। इस घोटाले में उक्त पेट्रोल पंप पर तैनात मार्केटिंग इंचार्ज मूलराज और क्लर्क सुनील को आरोपी बनाया गया है। शिमला जिले की एसपी मोनिका भुटुंगरू ने मामला दर्ज किए जाने की पुष्टि करते हुए बताया कि पुलिस द्वारा मामले की जांच शुरू कर दी गई है। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल: 21 साल के छात्र ने शेयर बाजार में डाल दिए थे 15 लाख, हॉस्टल में लटका मिला

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, इस घोटाले का खुलासा तब हो सका जब हिमफेड के एरिया इंचार्ज ने तीन महीने की खाता पड़ताल की तो पाया कि यहां 1 करोड़ 30 लाख रूपए का गबन हुआ है। विभागीय जांच में घोटाला सामने आने के बाद पेट्रोल पंप पर तैनात मार्केटिंग इंचार्ज और क्लर्क के खिलाफ FIR दर्ज कराई गई है। 

अगले महीने ही रिटायर होने वाला था मार्केटिंग मैनेजर

मिली जानकारी के अनुसार मामले में आरोपी बनाए गए पंप पर मार्केटिंग मैनेजर के पद पर तैनात मूलराज अगले महीने ही रिटायर होने वाले हैं। वहीं, अब रिटायरमेंट से ठीक एक माह पहले उनके सिर पर घोटालेबाजी का बम फूट गया है। 

बीते कुछ दिनों से बहाने बना रहे थे पंप पर तैनात कर्मी 

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि पहले ठियोग में केवल एक ही पेट्रोल पंप हुआ करता था, लेकिन आज से करीब तीन साल पहले हिमफेड ने जगेड़ी के पास पेट्रोल पंप बनवाया। इस पेट्रोल पंप का संचालन शुरू होने के बाद इलाके के आम जनों को काफी सुविधा हो गई थी। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल पुलिस के पास पहुंची महिला बोले- 25 साल से पति से परेशान हूं, अब नहीं रह सकती

इस बीच बीते कई दिनों से हफ्ते में एकाध बार पेट्रोल पंप बंद रह रहा था। इसके बारे में पूछे जाने पर वहां तैनात कर्मचारी बताया करते थे कि तेल की गाड़ी ना आने की वजह से पंप बंद है, लेकिन अब घोटाले की खबर सामने आने के बाद यह बात स्पष्ट हो सकी है कि विभागीय जांच होने के चलते पेट्रोल पंप को बंद रखा जा रहा था। 

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ