हिमाचल में 'आप' का बुरा हाल: जो वार्ड का चुनाव नहीं जीत पाया उसे बना दिया है संगठन मंत्री

Ticker

6/recent/ticker-posts

adv

हिमाचल में 'आप' का बुरा हाल: जो वार्ड का चुनाव नहीं जीत पाया उसे बना दिया है संगठन मंत्री


शिमला।
हिमाचल प्रदेश में इस साल के अंत तक होने वाले विधानसभा चुनावों के जरिए सूबे की राजनीति में आम आदमी पार्टी तीसरा मोर्चा बनकर एंट्री करने वाली है। ऐसे में पार्टी द्वारा सूबे में संगठन विस्तार का काम जोरों शोरों से किया जा रहा है। पार्टी के मुखिया अरविन्द केजरीवाल अपने नए नवेले मुख्यमंत्री भगवंत मान के साथ हिमाचल में एक रोड शो भी कर चुके हैं। 

BJP ने हिला दी है आप की नींव 

वहीं, केजरीवाल और भगवंत मान के इस रोड शो के बाद सूबे के सत्तासीन दल भारतीय जनता पार्टी ने आम आदमी पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष अनूप केसरी को अपने पाले में खींच कर 'आप' की नींव ही हिला दी है। अनूप केसरी के बीजेपी में जाने के बाद आम आदमी पार्टी को अब बारीकी से अपने संगठन और उसके लोगों को पर नजर रखनी पड़ रही है। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल: ताया ने मासूम भतीजी संग किया मुंह काला- भाई ने आता तो पता नहीं क्या होता

उधर, दूसरी तरफ दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य मंत्री सत्येन्द्र जैन पिछले लंबे समय से हिमाचल में डेरा जमाए बैठे हुए हैं। इस सब के बीच आम आदमी पार्टी दिल्ली से जुड़े एक और नेता को पार्टी द्वारा बड़ी जिम्मेदारी देते हुए प्रदेश में पार्टी का संगठन मंत्री बनाया गया है। इस नेता का नाम है सतेंद्र तोंगर। 

कौन हैं सतेंद्र तोंगर 

मौजूदा वक्त में हिमाचल प्रदेश आम आदमी पार्टी के संगठन मंत्री होने के अलावा तोंगर राज्य सलाहकार बोर्ड दिव्यंगता के सदस्य भी हैं। वहीं, अगर इनके राजनीतिक इतिहास पर अगर नजर घुमाएं तो आप पाएंगे कि तोंगर ने दिल्ली के वार्ड 75 (S) से चुनाव लड़ा था और हार भी गए थे। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल: 'मेरी पत्नी को कुछ रुपए दे देना, मैं अपनी मर्जी से दुनिया छोड़ रहा'

अब ऐसे में सवाल ये उठता है कि जो शख्स दिल्ली में एक वार्ड सदस्य का चुनाव नहीं जीत सका। उस शख्स को आम आदमी पार्टी हिमाचल प्रदेश में अपना संगठन मंत्री बनाकर कौन सा तीर मार लेगी। 

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ