हिमाचल की हर महिला का जांचा जाएगा खून: घर-घर जाएंगी आशा वर्कर, जानें क्या है वजह

Ticker

6/recent/ticker-posts

adv

हिमाचल की हर महिला का जांचा जाएगा खून: घर-घर जाएंगी आशा वर्कर, जानें क्या है वजह


शिमलाः
हिमाचल प्रदेश सरकार की ओर से राज्य को एनीमिया मुक्त करने को लेकर नई पहल शुरु की जा रही है। इसके तहत प्रदेश की हर महिला, युवती तथा स्कूल में पढ़ने वाली छात्राओं के खून की जांच की जाएगी। इस कार्य का जिम्मा स्वास्थ्य निदेशायलय की ओर से आशा वर्कर्स को सौंपा गया है। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल की पहली महिला ट्रक चालक: 12 साल पहले उजड़ा था सुहाग- तब से उठा रही परिवार का जिम्मा

आशा वर्कर्स स्कूल तथा लोगों के घरों में जाकर बच्चियों तथा महिलाओं के खून की जांच करेंगी और इस संबंध में एक रिपोर्ट तैयार कर स्वास्थ्य विभाग को सौंपेंगी। खून की जांच के लिए सरकार की ओर से इन्हें हीमोग्लोबिन मीटर उपलब्ध करवाए जाएंगे। 

12 से 14 बीच होना चाहिए एचबी

चिकित्सकों के मुताबिक सभी महिलाओं तथा युवतियों का एचबी 12 से 14 के बीच होना चाहिए। अगर किसी महिला का एचबी इससे कम होता है या जो भी महिला एनीमिक पाई जाती है तो उसे उपचार के लिए अस्पताल लाया जाएगा।

सात कंपनियों ने लिया टेक्निकल बिड में लिया हिस्सा

बता दें कि हीमोग्लोबिन मीटर को लेकर हाल ही में सरकार की ओ रसे टेंडर आमंत्रित किए गए थे। इस में कुल सात कंपनियों ने हिस्सा लिया। इस संबंध में बीते बुधवार को स्वास्थय निदेशालय की ओर से कंपनियों के लिए टेक्निकल बिड खोली गई है। 

यह भी पढ़ें: जयराम हटेंगे, अनुराग होंगे CM; केजरीवाल के दाहिने हाथ का बड़ा दावा, जानें डिटेल्स

इसमें इन कंपनियों के पंजीकरण सहित कई अन्य जरुरी दस्तावेजों की जांच की गई है। इन सभी कंपनियों में से जो भी कंपनी स्वास्थ्य विभाग के मानकों पर खरी उतरती है उसके लिए वित्तीय निविदा खोली जाएगी। इसके उपरांत उक्त कंपनी को टेंडर दिया जाएगा। 

जानें क्या वोले स्वास्थ्य सचिव

इस संबंध में जानकारी देते हुए स्वास्थ्य सचिव अमिताभ अवस्थी ने बताया कि हिमाचल में हर महिला और युवती के खून की जांच की जानी है। इसे लेकर कंपनियों से टेंडर आमंत्रित किए गए हैं। प्रदेश में जल्द यह सुविधा उपलब्ध कराई जा रही है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ