गैर हिमाचलियों को जमीन दिलाने के आरोपी पूर्व मुख्य सचिव पी मित्रा का निधन: कैंसर से पीड़ित थे

Ticker

6/recent/ticker-posts

adv

गैर हिमाचलियों को जमीन दिलाने के आरोपी पूर्व मुख्य सचिव पी मित्रा का निधन: कैंसर से पीड़ित थे


शिमलाः
हिमाचल प्रदेश में धूस लेकर गैर हिमाचलियों को जमीन देने मामले में संलिप्त हि प्र. के पूर्व मुख्य सचिव और राज्य चुनाव आयुक्त रहे पार्थ सार्थी मित्रा का निधन हो गया है। बताया जा रहा है कि वे काफी लंबे समय से कैंसर जैसी जटिल बीमारी से जूझ रहे थे। इस बीच आज सुबह उपचार के दौरान उनका निधन हो गया।

यह भी पढ़ेंः सीएम जयराम फिर जा रहे दिल्ली: कैबिनेट के बाद उड़ान भरेगा हेलिकॉप्टर, जानें क्या है वजह

बता दें कि पी मित्रा मूल रुप से दिल्ली से थे। वे सन् 1978 बैच के आईएएस अधिकारी थे। 66 साल की उम्र में उनकी जान चली गई। बताया जा रहा है कि उनकी हिमाचल की राजधानी शिमला स्थित ठियोग सहित अन्य जगहों पर संपत्तियां हैं। 

भ्रष्टाचार के तहत है मामला दर्ज

गौरतलब है कि पी मित्रा के खिलाफ हिमाचल में धारा 118 के तहत जमीन खरीद की मंजूरी मामले में विजिलेंस जांच चल रही थी। धूमल सरकार के कार्यकाल के दौरान जब वे राजस्व सचिव थे तो उस दौरान उन पर धारा 118 के अंतर्गत  जमीन खरीद को मंजूरी देने में गड़बड़ी करने के आरोप लगे थे। इसके उपरांत उनपर भ्रष्टाचार के तहत मामला दर्ज किया गया था। 

वीरभद्र सरकार में धीमी पड़ गई थी कार्रवाई

हालांकि, इसके उपरांत वीरभद्र सरकार आते ही मामले की कार्रवाई धीमी पड़ गई। उन्होंने वीरभद्र सरकार के समय में मुख्य सूचना आयुक्त के पद पर अपनी सेवाएं दी। इस दौरान विजिलेंस की क्लोजर रिपोर्ट को सेशन कोर्ट ने स्वीकार नहीं किया। वहीं, अब एक बार फिर जयराम सरकार बनते ही इस मामले की जांच नए सिरे से शुरु की गई।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ