हिमाचल: महिलाओं का बस किराया हुआ आधा तो निजी ऑपरेटर विरोध में उतरे, बोले- हमें घाटा होगा

Ticker

6/recent/ticker-posts

adv

हिमाचल: महिलाओं का बस किराया हुआ आधा तो निजी ऑपरेटर विरोध में उतरे, बोले- हमें घाटा होगा


शिमला।
हिमाचल प्रदेश की जयराम सरकार चुनावी साल में बड़े मझधार में फंसी हुई नजर आ रही है। दरअसल, प्रदेश सरकार भाल किसी का करने जाती है और नुकसान किसी और को हो जाता है। बीते कल भी जहां सूबे के जयराम ठाकुर ने प्रदेश की महिलाओं के हित को देखते हुए उनके बस किराए में 50% फासदी की छूट देने का ऐलान करते हुए उन्हें लाभन्वित किया। 

सरकार को एक बार करना चाहिए विचार 

तो अब वहीं दूसरी तरफ प्रदेश के निजी बस ऑपरेटर सरकार के इस फैसले के विरोध में उतर आए हैं। उनका कहना है कि प्रदेश सरकार के इस फैसले से उन्हें सीधे तौर पर नुकसान होगा। उनके मुताबिक सरकार को अपने इस फैसले पर एक बार के लिए विचार करना चाहिए। 

यह भी पढ़ें: जयराम ने बिना बताए बांट दिए तोहफ़े: मोदी-शाह नाराज, इससे BJP के अन्य राज्यों पर दबाव बनेगा

निजी बस एसोसिएशन के महासचिव नरेश कमल ने इस संबंध में बातचीत करते हुए कहा कि सीएम जयराम के इस फैसले के बाद से निजी बसों में महिलाएं सफर नहीं करेगी। 

सप्रीम कोर्ट के आदेश का दिया हवाला 

उन्होंने आगे कहा कि सर्वोच्च न्यायालय के आदेशानुसार एचआरटीसी द्वारा सरकार द्वारा निर्धारित किराए से कम किराया नहीं लिया जा सकता। सरकार ने 2.19 प्रति किलोमीटर के हिसाब से किराया निर्धारित किया है, लेकिन सरकार द्वारा 15 अप्रैल को की गई 50 प्रतिशत महिलाओं के किराए में छूट को न्यायसंगत नहीं माना जा सकता है। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल BJP के दो विधायकों से सवाल पूछने पहुंचा युवक: समर्थकों ने किया शर्मनाक सलूक

सर्वोच्च न्यायालय के आदेश है कि सरकार परिवहन व्यवसाय को लेकर ऐसा कोई फैसला नहीं कर सकती है, जिसमें सवारियों का बंटवारा हो। उसने कहा कि एक तरफ एचआरटीसी के पास अपने कर्मचारियों को तनख्वाह देने के लिए पैसे नहीं हैं। 

बिना कलपुर्जों एवं टायर इत्यादि को लेकर के बसें रास्ते में हांफ रही हैं और सरकार ने महिलाओं के किराए में 50 फीसदी की छूट देकर के एचआरटीसी पर और बोझ डाल दिया है। इसलिए एक बार फिर से सरकार को इस पर पुनर्विचार करना चाहिए। 

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ