हिमाचलः 37 लोगों की जान बचाने वाले स्वर्गीय चालक की पत्नी को HRTC में मिली नौकरी

Ticker

6/recent/ticker-posts

adv

हिमाचलः 37 लोगों की जान बचाने वाले स्वर्गीय चालक की पत्नी को HRTC में मिली नौकरी


मंडीः
हिमाचल प्रदेश के मंडी जिले में पेश आए एचआरटीसी बस हादसे में जान गंवाने वाले चालक की पत्नी को सरकार की ओर से नौकरी देने के आदेश जारी किए गए हैं। हादसा होने के मात्र 5 दिन के भीतर ही सरकार की ओर से ये निर्णय लिया गया है। 

HRTC में मिली नौकरी

महिला को एचआरटीसी में चपरासी के पद पर नियुक्ति दी गई है। यह नियुक्ति अनुबंध आधार पर की गई है। इस संबंध में बीते शुक्रवार को एचआरटीसी के मंडलीय प्रबंधक संतोष कुमार ने आधिकारिक आदेश जारी कर दिए हैं।

परिवार का एकमात्र सहारा था नंद किशोर

बता दें कि मंडी हादसे में जान गंवाने वाला मृतक चालक नंद किशोर अपने पीछे बूढी मां, 25 वर्षीय पत्नी सहित  6 व 3 वर्ष के दो छोटे बच्चे तथा मानसिक रुप से बीमार बड़ा भाई छोड़ गया है। परिवार का एकमात्र सहारा नंद किशोर ही था। 

यह भी पढ़ें: नड्डा ने हिमाचल आगमन से पहले छटका दिया AAP का मिडिल स्टंप: प्रदेशाध्यक्ष सहित 3 नेता BJP के हुए

ऐसे में उसके चले जाने के बाद परिवार पर मानों दुखों का पहाड़ ही टूट गया। परिवार के समक्ष घर खर्च की बड़ी समस्या खड़ी हो गई। ऐसे में सरकार की ओर से अब श्रद्धांजलि के तौर पर मृतक की पत्नी को सरकार नौकरी दी गई है।  

न्याय दिलाने में रहा इनका योगदान

स्व नंद किशोर की पत्नी को न्याय दिलाने के लिए युवा मोर्चा के प्रदेश सचिव एवं बीडीसी सदर के उपाध्यक्ष भुवनेश ठाकुर ने महत्तवपूर्ण भूमिका निभाई। उन्होंने यह पूरा मामला पूरी प्रमुखता के साथ सरकार के समझ रखा।

37 लोगों की जान बचा गया नंद किशोर

बता दें कि बीते 4 अप्रैल को निगम की बस मनाली से शिमला जा रही थी। इस बीच जैसे ही बस मंडी जिले के तहत आते पंडोह डैम के पास पहुंची तो तकनीकी खरादबी के चलते अनियंत्रित हो गई। 

ऐसे में ततपरता दिखाते हुए चालक नंद किशोर ने बस को रोकने के लिए अपनी जान की परवाह ना करते हुए बस को सड़क के साथ लगती पहाड़ी से टकरा दिया। इस हादसे में चालक में चालक सहित एक 13 वर्षीय बच्चे की मौत हो गई। हालांकि, इस दुनिया से जाते-जाते वह 37 लोगों को जीवनदान दे गया।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ