हिमाचल की शान: पढ़ाई के बाद नौकरी नहीं खेती को चुना, अब लाखों में कमाई

Ticker

6/recent/ticker-posts

adv

हिमाचल की शान: पढ़ाई के बाद नौकरी नहीं खेती को चुना, अब लाखों में कमाई


कालिंदी कुमारी/कुल्लू। आज के दौर में हर माता-पिता चाहते हैं कि उनके बच्चे पढ़ाई लिखाई के बाद कहीं किसी दफ्तर में अच्छी नौकरी करें और इसी तरह अपना जीवन गुजारें। उनका भी सोचना गलत नहीं है, लेकिन आज के इस दौर में जब हर एक युवा नौकरी की तलाश में दर-दर की ठोकरें खा रहा है। वहीं, हिमाचल प्रदेश के कुल्लू जिले के अंतर्गत आते आनी उपमंडल का रहने वाला एक युवक किसान खेतीबाड़ी कर लाखों रूपए की कमाई कर रहा है। 

आनी खंड की कराड पंचायत के पटारना निवासी प्रेम ठाकुर ने 12वीं कक्षा तक पढ़ाई करने के बाद नौकरी करने के बजाय खेती में अपने आप को झोंक दिया। अब आज सब्जियों की खेती करने वाले प्रेम ठाकुर अपने मेहनत के दम पर जहां अपना परिवार भी चला पा रहे हैं। 

वहीं, इन्होंने राष्ट्रीय स्तर पर भी अपना नाम चमका रखा है। आर्गेनिक खेती कर दूसरों के लिए प्रेरणा बने प्रेम ठाकुर को बेस्ट फार्मर ऑफ हिमाचल और नेशनल अवार्ड से सम्मानित किया जा चुका है। 

प्रेम के मटर का मंडियों में भी चलता है नाम 

आपको बता दें कि प्रेम बीते 21 सालों से सब्जी उगाने में लगे हैं। शिमला मंडी में प्रेम के मटर की पहचान उनके गांव पटारना मटर से ही प्रसिद्ध है। प्रेम ठाकुर ने बीते वर्ष मटर का 42 किलो बीज बोया था। बेहतर खेती के लिए मशहूर प्रेम ठाकुर ने बिना सिंचाई किए 42 किलो मटर से इतनी पैदावार की कि साढ़े तीन लाख का मटर हाथों हाथ बिक गया। 

मटर के अलावा प्रेम सब्जियों में आलू, मटर के अलावा गोभी और फ्रासबीन की भी खेती करते हैं और सबसे ख़ास बात यह है कि वे अपने खेतों में सिर्फ और सिर्फ आर्गेनिक खादें और स्प्रे को ही उपयोग में लाते हैं। 

100 फ़ीसदी आर्गेनिक खेती करने वाले प्रेम ने बताया कि वे अपना पूरा समय खेती को ही देते हैं, जिससे उन्हें अच्छा ख़ासा मुनाफा भी होता है। खेती किसानी के साथ ही साथ प्रेम अपने क्षेत्र के अन्य किसानों को जागरूक करने के लिए कई बार सफल जागरूकता शिविर भी लगा चुके हैं। 

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ