हिमाचल के इन स्कूलों में नहीं होगी मल्टी टास्क वर्कर्स की भर्ती: नीति भी नहीं बनवा सकेंगे

Ticker

6/recent/ticker-posts

adv

हिमाचल के इन स्कूलों में नहीं होगी मल्टी टास्क वर्कर्स की भर्ती: नीति भी नहीं बनवा सकेंगे


शिमलाः हिमाचल प्रदेश में मल्टी टास्क वर्कर के 8 हजार पदों पर भर्ती प्रक्रिया शुरु हो चुकी है। इस संबंध में शिक्षा विभाग की ओर से आदेश भी जारी किए जा चुके हैं। इस सब के बीच खबर सामने आ रही है कि प्रदेश के उन सरकारी स्कूलों में मल्टी टास्क वर्कर की तैनाती नहीं होगी जिनमें विद्यार्थियों की संख्या 10 से कम है। 

यह भी पढ़ें: हिमाचल दिवस पर मिलेगा आउटसोर्स कर्मियों को तोहफा: नीति बनाने को लेकर घोषणा की तैयारी में CM

बता दें कि बीते कल यानी 13 अप्रैल से प्रदेश में मल्टी टास्क वर्कर के 8 हजार पदों के लिए आवेदन प्रक्रिया शुरु हो गई है। इच्छुक पात्र सादे कागज पर प्रार्थना पत्र तथा जरुरी दस्तावेजों की प्रतियां लगाकर खंड शिक्षा अधिकारी तथा जिला उपनिदेशक के पास आवेदन कर सकते हैं। स्कूलों में मल्टी टास्क वर्कर का चयन एसडीएम की अध्यक्षता वाली तीन सदस्यीय कमेटी करेगी। इस भर्ती में स्थानीय लोगों को प्राथमिकता मिलेगी। 

ताउम्र कच्चे कर्मचारी के तौर पर सेवाएं देनी होगी

नोटिफिकेशन के अनुसार, जिस भी शख्स को सिलेक्ट किया जाएगा, उसे 4500 रुपए मासिक वेतन मिलेगा। सबसे अहम बात है कि चुना गया मल्टी टास्क वर्कर भविष्य में सरकार से रेगुलर  करने की मांग नहीं कर पाएगा और उसे ताउम्र कच्चे कर्मचारी के तौर पर सेवाएं देनी होगी। 

यह भी सरकार पर तय होगा कि उसके वेतन में वृद्धि होगी या नहीं। दूसरे पक्के कर्मियों की तरह हर साल मल्टी टास्क वर्कर को वेतन वृद्धि नहीं मिलेगी। नोटिफिकेशन में साफ तौर पर लिखा गया है कि मल्टी टास्क वर्कर को साल में 12 छुट्ठियां मिलेगी। हर महीने एक छुट्टी मिलेगी। वहीं, मेडिकल के तौर पर पांच छुट्टियां मिंलेगी। 

यहां जानें कैसे होगी भर्ती

आवेदन करने की अंतिम तारीखः 27 अप्रैल

आयु सीमाः 18 से 45 वर्ष

यह भी पढ़ें: हिमाचल: बिजली की गिरने की तस्वीर हुई वायरल, चार जिलों में हुई बूंदाबांदी- गर्मी से राहत अभी नहीं

जरुरी दस्तावेजः उम्मीदवारों को पंचायत सचिव की ओर से जारी किया गया दूरी प्रमाण पत्र, जन्म तिथि और आयु प्रमाण पत्र, ऐसे परिवार का सदस्य जो अत्यधिक गरीब का प्रमाण पत्र, विभिन्न श्रेणियों के प्रमाण पत्र, विधवा, अनाथ, संदर्भित प्रमाण पत्र, पाठशाला के लिए दान में दी गई भूमि का प्रमाण पत्र, एससी, एसटी, बीपीए का प्रमाण पत्र, परिवार में कोई सदस्य सरकारी और गैर सरकारी नौकरी में न हो, उसका प्रमाण पत्र भी आवेदन के साथ संलग्न करना रहेगा।

मेरिट के आधार पर होगा चयन

मल्टी टास्क वर्कर का चयन मेरिट के आधार पर होगा। इसके लिए 38 अंक निर्धारित किए गए हैं। 

घर से स्कूल की दूरी के आधार पर आठ अंक निर्धारित किए गए हैं। जिस क्षेत्र में स्कूल है, वहां के स्थानीय निवासी को आठ अंक दिए जाएंगे। अन्य क्षेत्र के लोगों को दो से छह अंक मिलेंगे। 

आठवीं कक्षा पास आवेदक को आठ अंक और पांचवीं कक्षा पास को पांच अंक दिए जाएंगे। 

विधवा अनाथ और दिव्यांगों को आठ अंक मिलेंगे।

विषम परिस्थितियों में रहने वाले आवेदकों को पांच अंक दिए जाएंगे। 

पति से अलग रहने वाली महिला को तीन अंक मिलेंगे। 

अगर किसी आवेदक के परिवार की ओर से सरकारी स्कूल को भूमि दान में दी गई है, उन्हें भी आठ अंक मिलेंगे। 

आरक्षित वर्ग के आवेदकों को तीन अंक दिए जाएंगे। 

बेरोजगार परिवार से संबंधित आवेदक को भी तीन अंक मिलेंगे।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ