हिमाचल प्रदेश में भाई के साथ छिपा था शेरू, हथियारों और नशे सहित गिरफ्तार

Ticker

6/recent/ticker-posts

adv

हिमाचल प्रदेश में भाई के साथ छिपा था शेरू, हथियारों और नशे सहित गिरफ्तार


जालंधर/शिमलाः
हिमाचल बाहरी प्रदेश के अपराधियों का नया ठिकाना बनता जा रहा है है। यही वजह है कि अन्य राज्यों से अपराधी फरार होकर यहां पर आकर पनाह लेने लगे हैं। इसी कड़ी में पंजाब पुलिस ने जालंधर के एक व्यापारी पर गोली चलाने मामले में फरार दो आरोपितों को हिमाचल की सीमा के तहत पड़ते एक गांव से गिरफ्तार किया है।

नशा भी हुआ बरामद, बंदूकें भी

आरोपितों के पास पुलिस को साढ़े छह लाख की ड्रग मनी सहित चार पिस्टल प्वाइंट 32 बोर, छह मैगजीन, 32 कारतूस, 103 ग्राम हेरोइन, 550 ग्राम नशीला पाउडर, तीन गाड़ियां और एक खंडा (दो धारी तलवार) बरामद की है। दरअसल, ये सभी आरोपित हिमाचल की सीमा के तहत पड़ते एक गांव में किसी जानकार के घर पर ठहरे हुए थे।

पुलिस ने जब घर पर दबिश दी तो उस समय वहां मकान मालिक मौजूद नहीं था। आारोपितों का नाम शेरु व सन्नी है जो कि फतेह-अमन गैंग के सदस्य बताए जा रहे हैं। मिली जानकारी के मुताबिक जालंधर के एक हैंडटूल व्यापारी पर गोली चलाने के बाद शेरु व सन्नी मौके से फरार हो गए थे। इसके बाद से ही पुलिस टीम इनकी तलाश में जुटी हुई थी।

नाकाबंदी कर किया अरेस्ट

इन्हें पकड़ने के लिए पुलिस विभाग की ओर से एसआईटी का गठन भी किया गया था। जांच के दौरान टीम को आरोपितों के हिमाचल की सीमा के तहत पड़ते एक गांव में किसी जानकार के घर पर ठहरने की खबर लगी। पुलिस को गुप्त सूचना मिली की आरोपित हिमाचल से जालंधर की ओर आ रहे हैं। ऐसे में उन्होंने आरोपितों को पकड़ने के लिए टी प्वाइंट लाडोवाली रोड के पास नाकाबंदी कर दी।

चेकिंग के दौरान एक स्विफ्ट कार को जब जांच के लिए रोका गया तो उसमें आरोपित शेरु, सन्नी सहित पांच लोग बैठे हुए थे। इस पर कार्रवाई करते हुए पुलिस ने आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस जांच में सामने आया कि आरोपितों ने गोली रंगदारी के लिए चलाई थी। कामयाबी नहीं मिलने पर वह फरार हो गए थे।

इस बीच जब वह हिमाचल में रुके हुए थे तो उन्होंने जालंधर के ज्वैलर को लूटने की साजिश की। इसी सिलसिले में जब वह जालंधर की ओर आ रहे थे तो रास्ते में नाकाबंदी के दौरान पुलिस के हांथों पकड़े गए।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ